ब्लॉगसेतु

kumarendra singh sengar
28
लॉकडाउन का उपयोग कौन किस तरह कर रहा है, इस बारे में तो किसी ने बताने की कोशिश ही नहीं की. बहुतायत लोगों ने अपना ये समय सोशल मीडिया पर कोरोना के आसपास ही बनाये रखा. मोदी जी के जनता कर्फ्यू के पहले से ही ऐसा आभास होने लगा था कि किसी न किसी दिन लॉकडाउन जैसी स्थिति बने...
ज्योति  देहलीवाल
24
रामनवमी का त्यौहार चैत्र मास के शुक्ल पक्ष की नवमी को मनाया जाता है। हिंदू धर्मशास्त्रों के अनुसार इस दिन मर्यादा-पुरूषोत्तम भगवान श्रीराम जी का जन्म हुआ था। इसलिए चैत्र नवरात्रि के अंतिम दिन श्रीराम जी के जन्मदिन के रुप में रामनवमी मनाई जाती हैं। रामनवमी प्रभु राम...
अनीता सैनी
12
खिल उठेगा आँचल धरा का, मानव मन अब अवसाद न कर, चहुओर प्रेम पुष्प खिलेंगें समय साथ है आशा तू धर।  पतझर पात विटप से झड़ते, बसँत नवाँकुर खिल आएगा, खुशहाली भारत में होगी  गुलमोहर-सा खिल जाएगा, बितेगा फिर समय ये भारी,  संय...
sanjiv verma salil
6
छंद सलिला:मनमोहन छंदसंजीव*लक्षण: जाति मानव, प्रति चरण मात्रा १४ मात्रा, यति ८-६, चरणांत लघु लघु लघु (नगण) होता है.लक्षण छंद:रासविहारी, कमलनयनअष्ट-षष्ठ यति, छंद रतनअंत धरे लघु तीन कदमनतमस्तक बलि, मिटे भरम.उदाहरण:१. हे गोपालक!, हे गिरिधर!!हे जसुदासुत!, हे नटवर!!हरो म...
sanjiv verma salil
6
मनहरण घनाक्षरी (३१ वर्ण)*मनहरण घनाक्षरी में १६,१५ वर्ण पर यति तथा चरणांत में गुरू होता है।*शालिनी हो, माननी हो, नहीं अभिमाननी हो,श्वास-आस स्वामिनी हो मीत मेरी कवितागति यति लय रस भाव बिंब रूप जस,प्राण मन आत्मा हो प्रीत मेरी कवितासाधना हो वंदंना हो प्रार्थना हो अर्चन...
 पोस्ट लेवल : मनहरण घनाक्षरी
rishabh shukla
661
कोरोना वायरस क्या है? इसकी उत्पत्ति कहाँ और कैसे हुई?कोरोनावायरस (Coronavirus) कई वायरसो का एक समूह है जो स्तनधारियों और पक्षियों में रोग के कारक होते हैं। यह आरएनए वायरस होते हैं। मानवों में यह श्वास तंत्र संक्रमण&...
विजय राजबली माथुर
96
राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद द्वारा पूर्व मुख्य न्यायाधीश रंजन गोगोई को राज्यसभा के लिए नामित करने पर उच्चतम न्यायालय के पूर्व न्यायाधीशों और विपक्षी दल के नेताओं ने आलोचना की है. इस मुद्दे वरिष्ठ अधिवक्ता और जज अंजना प्रकाश ,मार्कन्डेय काटजू,कुरियन जोसेफ https://www...
Bharat Tiwari
20
Love Poems in Hindiहम जानते हैं, जिसका अतीत नहीं होता, उसका भविष्य भी नहीं होता। जो केवल वर्तमान में रहता है, वह किसी प्रकार का रचनात्मक कर्म नहीं संवार सकता। इसलिए सुमन की कविताएं अतीत विरह की नहीं, अतीत अहसास की कविताएं हैं। — मृदुला गर्ग (adsbygoogle =...
161
 राधाराधा आज मुसकाईसखियों के साथ आईकान्हा जी की मुरली कोआज तो छिपाएंगेआज हम छिप करकृष्ण से लिपटकर दही नवनीत से ही उनको भिगाएंगे होली का त्योहार आज रख दूर सब काज  मिलकर हम सब कृष्ण को सताएंगे मोहन है चित चोर बांधकर प...
161
विषय - *परीक्षा*