ब्लॉगसेतु

शरद  कोकास
665
रचना संवाद : भाग 3 रचना और रचनाकार की मन:स्थिति व अन्तःप्रेरणा लिखते समय हमारी मनस्थिति कैसी होनी चाहिए कई बार ऐसा होता है कि हम कुछ भी लिखने की मन:स्थिति में नहीं होते । विचार हमारे इर्द-गिर्द मँडराते रहते हैं, भाव हमे घेरे रहते हैं लेकिन शब्द नहीं सूझते । कई...
रेखा श्रीवास्तव
450
               वैसे तो ये रोज की बात है की दो चार हत्या , आत्महत्या के प्रकरण अखबार में न रहे हों. हम पढ़ कर उसको फ़ेंक देते हैं, यह सोचते भी नहीं है की क्या इससे जुड़े लोगों को इसके कारणों से बचा प...