ब्लॉगसेतु

हर्षवर्धन त्रिपाठी
0
 हर्ष वर्धन त्रिपाठीनवाब मलिक महाराष्ट्र की राजनीति के बड़े नेताओं में गिने जाते हैं। शरद पवार के अत्यंत नजदीकी भी हैं। माना जाता है कि शरद पवार की ही तरह राजनीति के मंझे हुए खिलाड़ी हैं, लेकिन दामाद की नशे के कारोबार में हुई गिरफ्तारी ने उन्हें बुरी तरह हिला...
मनीष कुमार
0
नागपुर यूँ तो अपने चारों ओर तरह तरह के अभ्यारण्यों को समेटे है बस शहर के बीचो बीच भी एक इलाका है जो जानवरों के लिए तो नहीं पर प्रकृति प्रेमियों और स्वास्थ के प्रति सजग रहने वालों में खासा लोकप्रिय है। इस इलाके का नाम है अंबाझरी जैवविविधता उद्यान जो करीब साढ़े सात सौ...
सुशील बाकलीवाल
0
                   इस बार के महाराष्ट्र विधान सभा के चुनावों के बाद सभी राजनीतिक दलों में सत्ता के लिये जो महासंग्राम हुआ, वो समूचे देश ने शताब्दी के इकलौते उदाहरण के रुप में रुचिपूर्वक देखा । अंतत: महाराष्ट्र के इस...
kumarendra singh sengar
0
महाराष्ट्र में राजनीति के ऊँट ने कई बार इधर-उधर करवटें बदलते हुए अंततः उस तरह करवट ले ली, जिस तरफ किसी ने सोचा न था. शिवसेना प्रमुख उद्धव ठाकरे के मुख्यमंत्री पद की शपथ लेने के साथ ही एक ऐसा अध्याय जुड़ गया जो राजनीति की कल्पना में ही संभव कहा जायेगा. जैसा कि कहा जा...
मनीष कुमार
0
पिछली दीपावली नागपुर में बीती। दीपावली के बाद हाथ में दो दिन थे तो लगा क्यूँ ना आस पास के राष्ट्रीय उद्यानों में से किसी एक की सैर कर ली जाए। ताडोबा और पेंच ऍसे दो राष्ट्रीय उद्यान हैं जो नागपुर से दो से तीन घंटे की दूरी पर हैं। अगर नागपुर से दक्षिण की ओर निकलिए तो...
ज्योति  देहलीवाल
0
आज आरक्षण की स्थिति यह हैं कि मानो हमारा संविधान कह रहा हैं कि काबिल मत बनो, दलित बनो...कामयाबी झक मारकर पीछे आयेगी!!! महाराष्ट्र शासन ने तो सुप्रीम कोर्ट एवं संविधान की गाईड लाइन को तोडते हुए आरक्षण की सीमा जो कि 50% थी उसे सिर्फ़ वोट बैंक एवं राजनीति की ख़ातिर 76%...
Brajesh Kumar Pandey
0
इस यात्रा के बारे में शुरू से पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करें–चौथा दिन–आज मेरा नासिक में चौथा दिन था। कल की थकान की वजह से आज उठने में देर हो गयी। कई जगहें घूमने से छूट गयी थीं। समय कम रह गया था। पाण्डवलेनी या पाण्डव गुफाएं भी मैं नहीं जा सका था। हरिहर फोर्ट भी जाने क...
Brajesh Kumar Pandey
0
इस यात्रा के बारे में शुरू से पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करें–11 बज रहे थे और मैं अंजनेरी की चढ़ाई की ओर चल पड़ा। इस समय मैं समुद्रतल से लगभग 2500 फीट की ऊँचाई पर था। एक भेड़ चरवाहे से पता चला कि शुरू में तीन किमी का लगभग सीधा रास्ता है लेकिन उसके बाद अगले तीन किमी सी...
Brajesh Kumar Pandey
0
इस यात्रा के बारे में शुरू से पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करें–पंचवटी घूमने में 11 बज गये। सूत्रों से पता चला था कि नासिक–इगतपुरी रोड पर एक नया जैन मंदिर बना है जिसकी वास्तुकला दर्शनीय है। तो सबसे पहले ऑटो के सहारे मैं नासिक के केन्द्रीय बस स्टैण्ड पहुँचा। नासिक के केन...
Brajesh Kumar Pandey
0
सितम्बर का महीना। ऊमस भरी गर्मी। घुमक्कड़ ऐसे में चल पड़ा उस स्थान की ओर,जहाँ भगवान राम ने अपनी पर्णकुटी बनाई थी अर्थात् नासिक। सोचा,एक दिन पर्णकुटी के बगल में किसी झोपड़ी में विश्राम करूँगा। जंगल में भगवान राम के चरण जहाँ पड़े होंगे,उन स्थानों का दर्शन करूँगा। उस...