ब्लॉगसेतु

Nitu  Thakur
502
न जाने किसके हाथ हैं किस्मत के फैसले बढ़ती ही जा रहीं हैं राहों की मुश्किलें सजदा करें तो किसके दर पर करें बता ?कब तक रहेंगे कायम इस दिल के हौसले ?नेकी और शराफत भी बेकार हो गए मेहनत के पसीने भी बेजार हो गए काटों भरी हैं राहें मंजिल भी लापता ...
ANITA LAGURI (ANU)
431
Hot Tea..ज़िन्दगी  ने फिर से बनी बनाई चायउड़ेल दी कप में  मेरे ,चाहे चाय ,बेस्वाद ही क्यों  न बनी हो।हर बार की तरहअपनी परेशानियों  में  लिपटी ,वो पास आ जाती  है और मुझसे  कहती  है छोड़े जा रही  हू...
Bhavna  Pathak
80
सचमुच ही अनमोल खजानेहोते हैं ये अच्छे दोस्तअच्छे दिन के बहुत हैं साथीमुश्किल में काम आते दोस्तयाद पुरानी जब जब आएयाद आते बचपन के दोस्तदिल की धड़कन बनकर रहतेदिल में सदा हमारे दोस्तहाथ थामना सदा दौड़करजब भी कभी पुकारे दोस्त----------  शिवशंकर
अनंत विजय
55
करण जौहर की फिल्म ऐ दिल है मुश्किल में जब ऐश्वर्य राय और रणवीर कपूर के बीच इंटीमेट सीन्स को लेकर बॉलीवुड में काम करनेवाले लोगों से लेकर दर्शकों के बीच खासा कौतूहल रहा । खबर तो ये भी आई कि ऐश्वर्य के इन दृश्यों को लेकर बच्चन परिवार ने आपत्ति जताई है,परिवार में अनबन...
सुशील बाकलीवाल
409
"If you really want to do something, you'll find a way. If you don't, you'll find an excuse."           एक ट्रक में मारबल का सामान जा रहा था, उसमे टाईल्स भी थी, और भगवान की मूर्ति भी थी !   &nbsp...
मधुलिका पटेल
546
तुम इतना तेज मत चलो इतने आगे निकल तो गए हो पर कम से कम पल दो पल तो रुको रुख कर चलने के बीच इतना वक्त तो हो मेरे मीतइंतज़ार जो तुमने किया हो मेरे लिए उसका मुझे अहसास तो हो मेरे प्यार में इतना हो दम मेरे इंतज़ार में थम जाए तुम्हारे...
मधुलिका पटेल
546
सारी जिंदगी ढूँढती रहीन मंजिल मिली न किनारा न शब्दों का अर्थ  अनवरत चलते कदम कभी थकते हैं कभी रुकते हैं बस झुकना,वो कमबख़्त वक़्त भीनहीं सिखा पाया ये उम्मीद शब्द मैने सुना जरूर है मेरी कलम उसेबहुत अच्छे से लिख लेती हैपर मेरा मस्ति...
मधुलिका पटेल
546
हालातों ने उसकी खुशी कोकही दफ़ना दियाउससे छीन कर उसकी मुस्कुराहट कोकहीं छिपा दियाचाहती थी वो सूरज की किरनों से पहलेदौड़ कर धरा को छू लूगुन-गुनी धूप सी गरमाइशहाथों में हुआ करती थीजाड़े में गुलमोहर के नीचेइंतज़ार खत्म होता थाऔर सर्द हवाओं मेंकाँपते उसके हाथ होते...
नवीन "राज" N.K.C
310
उम्र सिर्फ अनुभव नहीं सोंच, समझ में भी व्यस्कता ले आती है धैर्य और स्थिरता के साथ मन की दुर्बलता आती है, जीवन के साथ जैसे एक ज़ंजीर भी बढ़ती है जो खुद ही को दायरे में जकड़ लेती है, व्यवहार में परिपक्वता स्वभाव में कठोरता स्वार्थ में तत्परता शब्दों में असहजता ,बुद्धि...
jaikrishnarai tushar
231
चित्र -गूगल से साभार एक गीत -इस मुश्किल मौसम में तुमने   इस मुश्किल मौसम में तुमने माँगा मुझसे गीत प्यार का |गीत तुम्हारे मन के होंगे पहले मौसम हो बहार का |धुंध भरी संध्याएँ -सुबहें दिन उजले हो गए हाशिए ,अनगिन भाषा...