ब्लॉगसेतु

YASHVARDHAN SRIVASTAV
680
दिल को सुकून देतीवो मधुर संगीत हैआंखो में चमक भर देतावो तारा संगीत है।मन को खुश कर देतीवो धूप संगीत हैकमजोरी को हिम्मत देतावो साहरा संगीत है।जिंदगी को उम्मीद देतीवो भरपूर संगीत हैहौसलों में जुनून भर देतावो उजियारा संगीत है।चेहरे पर मुस्कान ला देतीवो सुकून सा संगीत...
सुशील बाकलीवाल
329
      पिछले दिनों बहुचर्चित निर्भया केस में कोर्ट रुम के एक विशेष दृश्य के बारे में समाचारपत्रों में पढा कि मुजरिम को फांसी दी जाए या मुजरिम की फांसी को टाल दिया जाए इस विषय पर दो माताएं न्यायाधीश महोदय के समक्ष अपनी-अपनी भरी आँखों से समुचित न्याय की...
सुशील बाकलीवाल
413
      लडकी (प्रेम निवेदन करते लडके से)–      तूम पागल हो क्या ? मैं शादी शुदा हूँ, मेरा पति        है… और ऑफिस में एक बॉयफ्रेन्ड भी है ।      मेरा ex-boyfriend  मेरे पड़ोस में ही र...
ANITA LAGURI (ANU)
369
तापस       मेरी डायरीयों के पन्नों में,       रिक्तत्ता शेष नहीं अब,       हर शुं तेरी बातों का         सहरा है..!   &...
सुशील बाकलीवाल
413
          अमेरिका के राष्ट्रपति अब्राहम लिंकन किसी अधिकारी को नोट्स लिखवा रहे थे.. एक महिला बीच-बीच में बहुत बोल रही थी.          अधिकारी बोला ये महिला बोल-बोल के बहुत डिस्टर्ब कर रही है... ...
 पोस्ट लेवल : गलती हँसी और मुस्कान
Yashoda Agrawal
3
मेरा अस्तित्व मेरे साथ है वो किसी के नाम का मोहताज नहीं पर हाँ जब मेरे नाम के साथ मेरे पिता का नाम होता है मुझे ख़ुशी होती हैउनका मेरे साथ होनाउनका अहसास उनका आभास ....और जब नाम के साथजुड़ता है पति का नाम तब भी नहीं खोता मेरा...
 पोस्ट लेवल : रीना मौर्य मुस्कान
Yashoda Agrawal
3
उनके चेहरे से जो मुस्कान चली जाती है - मिलन 'साहिब'उनके चेहरे से जो मुस्कान चली जाती है,मेरी दौलत मेरी पहचान चली जाती है।जिंदगी रोज गुजरती है यहाँ बे मक़सद,कितने लम्हों से वो अंजान चली जाती है।तीर नज़रों के मेरे दिल में उतर जाते हैं,चैन मिलता ही नहीं जान चली जाती है।...
 पोस्ट लेवल : जान मुस्कान
Nitu  Thakur
479
रोज मै तुम्हें कितना इंतजार करवाता हूँ थक हारकर जब लौटकर आता हूँ ज़िंदगी की उलझनों में खोया खोया सा मै तुम्हारी प्यारी सी मुस्कान को नजरअंदाज कर जाता हूँ कभी कभी गुस्से में बहुत कुछ कह जाता हूँ और तुम्हारे जाने के बा...
ANITA LAGURI (ANU)
369
                                        मुझे आती नहींमुस्कुराहट  तुम्हारी  तरहन ही आती हैआंखों को नीचेकर शरमाने की कलामेरी संवेदनाएं तो यहीं...
मधुलिका पटेल
536
ऐ ज़िन्दगी तू इतना क्यों रुलाती है मुझे ये आँखे है मेरी कोई समंदर या दरिया नहीं --- ~ ---गुज़रे हुए कल मैंने तो हद कर दी वक़्त से ही वक़्त की शिकायत कर दी --- ~ ---मेरी मुस्कान गिरवी रखी थी जहाँवो सौदागर ही न जाने कहाँ...