ब्लॉगसेतु

Yashoda Agrawal
9
मौन भी मुखरितसाथ रहे जब राधा और श्यामकंगन बिछुआ, पायल छनके  ‎संग मुरली के तानमगन प्रेम में बिसराये कब भोर से हो गयी साँझनैन की आँख-मिचौली में क्या बतियाने का कामपात कदंब के ले हिलकोरे जमना बैठी लहरे थाम हवा राग...
 पोस्ट लेवल : मौन भी मुखरित
Yashoda Agrawal
9
मौन भी मुखरितसाथ रहे जब राधा और श्यामकंगन बिछुआ, पायल छनके  ‎संग मुरली के तानमगन प्रेम में बिसराये कब भोर से हो गयी साँझनैन की आँख-मिचौली में क्या बतियाने का कामपात कदंब के ले हिलकोरे जमना बैठी लहरे थाम हवा राग...
 पोस्ट लेवल : मौन भी मुखरित