ब्लॉगसेतु

E & E Group
17
मिर्च का अचार आवश्यक सामग्री - Ingredients for Instant Mirchi Achar Recipeहरी मिर्च- 100 ग्रामसरसों का तेल- 4 से 5 छोटी चम्मचसिरका- 4 छोटी चम्मचसौंफ- 3 छोटी चम्मचकाली सरसों के दाने- 3 छोटी चम्मचनमक- 1.5 छोटी चम्मच या स्वादानुसारमेथी दाने- 1.5 छोटी चम्मचजी...
sanjiv verma salil
6
नवगीत *पल में बारिश, पल में गर्मी गिरगिट सम रंग बदलता है यह मौसम हमको छलता है*खुशियों के ख्वाब दिखाता हैबहलाता है, भरमाता हैकमसिन कलियों की चाह जगासौ काँटे चुभा, खिजाता हैअपना होकर भी छाती परबेरहम! दाल दल हँसता हैयह मौसम हमको छलता है*जब एक हाथ म...
 पोस्ट लेवल : navgeet mausam नवगीत मौसम
Ravindra Pandey
480
जो भी हो जाए कम है,क्यों तेरी आँखें नम हैं?देते हैं  ज़ख्म  अपनें,मिले गैरां से मरहम है।तू अपनी राह चला चल,पीकर अपमान हलाहल।या मोड़ दिशा हवाओं के,गर तुझमें भी कुछ दम है।न्याय सिसक कर रोए,अन्याय की करनी धोए.यहाँ झूठ, फ़रेब के क़िस्से,नित लहराते परचम हैं।नैतिकत...
kumarendra singh sengar
30
यूँ तो सभी मौसमों का अपना मजा है. हर मौसम में लोग अपनी तरह से उसका आनंद लिया करते हैं. किसी को गर्मी इसलिए अच्छी लगती है क्योंकि इस मौसम में वे देश-विदेश के बर्फीले स्थानों के भ्रमण का बहाना निकाल लेते हैं. कुछ लोगों को सर्दी इसलिए पसंद आती है क्योंकि उस मौसम का गु...
sanjiv verma salil
6
एक रचना:पौधा पेड़ बनाओ*काटे वृक्ष, पहाडी खोदी, खो दी है हरियाली.बदरी चली गयी बिन बरसे, जैसे गगरी खाली.*खा ली किसने रेत नदी की, लूटे नेह किनारे?पूछ रही मन-शांति, रहूँ मैं किसके कहो सहारे?*किसने कितना दर्द सहा रे!, कौन बताए पीड़ा?नेता के महलों में करता है, विकास क्यों...
jaikrishnarai tushar
150
चित्र -गूगल से साभार एक पेमगीत -कुछ फूलों के  कुछ मौसम के कुछ फूलों के कुछ मौसम के रंग नहीं अनगिन |तुम्हे देखकर बदला करतीं उपमाएं पल -छिन |एक सुवासित गन्ध हवा में छूकर तुमको  आती ,राग बदलकर रंग बदलकर प्रकृ...
रवीन्द्र  सिंह  यादव
140
कहीं बादल रहे उमड़कहीं आँधी रही घुमड़अब आ गयी धूप चुभती चिलचिलातीअब सूखे कंठ से चिड़िया गीत न गातीकोयल को तो मिल गया आमों से लकदक  बाग़कौआ ढूँढ़ रहा है मटका गाता फिरे बेसुरा रागचैतभर काटी फ़सल  बैसाख में खलिहान बदला ...
Ravindra Pandey
480
मौसम ज़रा ज़र्द हो क्या गया,वो हम से ही नज़रें चुराने लगे।कल तक रहे धड़कनों की तरह,साये से भी पीछा छुड़ाने लगे।काँच से भी नाज़ुक अरमां मेरे,टूटते ही लहू सब बहाने लगे।शुक्र है तुम्हें सम्भलना आ गया,हम आँखों से मोती गिराने लगे।तनहा कटे क्यों उमर का सफ़र,यादों की महफ़िल सजाने...
विजय राजबली माथुर
168
स्पष्ट रूप से पढ़ने के लिए इमेज पर डबल क्लिक करें (आप उसके बाद भी एक बार और क्लिक द्वारा ज़ूम करके पढ़ सकते हैं )
sanjiv verma salil
6
एक गीत -एक पैरोडी*ये रातें, ये मौसम, नदी का किनारा, ये चंचल हवा ३१कहा दो दिलों ने, कि मिलकर कभी हम ना होंगे जुदा ३०*ये क्या बात है, आज की चाँदनी में २१कि हम खो गये, प्यार की रागनी में २१ये बाँहों में बाँहें, ये बहकी निगाहें २३लो आने लगा जिंदगी का मज़ा १९*सितारों की...