ब्लॉगसेतु

राजीव कुमार झा
542
नेह के रथ से मिलेसंकेत अमलतास के लौट आए टहनियों के लालनीलेपंख वाले दिन मन पलाशों के खिले हैं हर घड़ी-पल-छिन अंग फिर खुलने लगे हैं फागुनी लिबास के अधर गुनगुना उठे,ह्रदय में सुमन खिले हैं आस के रंग रंगीले दिन आये हैं मधुर हास-परिहास केकौन पखेरू धुन मीठी यहघोल गया है क...
 पोस्ट लेवल : वसंत मौसम
Rajendra kumar Singh
349
१. सर्दी के दिनठिठुरते इंसानलाया कहर २. शीत लहर पिया हैं परदेश व्याकुल मन ३. सर्द हवाएं बेदर्द हुई सर्दी आफत आई ४. कापते हाथ ठिठुरता बदन ओढ  रजाई ५. कंपाती  भोर रजाई में दुबके...
 पोस्ट लेवल : हाइकू haikoo सर्दी मौसम
संगीता पुरी
24
दुनिया भर के वैज्ञानिक क्‍या आमजन भी शायद ही इस बात पर विश्‍वास कर सकें कि पृथ्‍वी का मौसम आसमान में स्थित ग्रहों से प्रभावित होता है। हालांकि आरंभ से ही परंपरागत ज्‍योतिष में माना जाता है कि विश्‍व के मौसम को प्रभावित करने में आसमान में स्थिति ग्रहों नक्षत्रों की...
मुकेश कुमार
210
दिल्ली फिल्म फेस्टिवल से खींची हुई तस्वीर मौसम की आवोहवा रिश्तों पर करती है असर !ठंडी संवेदनाएं और जम कर बनता बर्फ जैसा हो जाता है रिश्ता अंधेरी सर्द भरी रात बिलकुल घुप्प एवं ठंडी दूरी में रहती है गर्माहट तो नज़दीकियाँ लाती है सर्द ये रिश्ता भी है अजीब मौसम की...
jaikrishnarai tushar
150
चित्र -गूगल से साभार एक गीत -इस मुश्किल मौसम में तुमने   इस मुश्किल मौसम में तुमने माँगा मुझसे गीत प्यार का |गीत तुम्हारे मन के होंगे पहले मौसम हो बहार का |धुंध भरी संध्याएँ -सुबहें दिन उजले हो गए हाशिए ,अनगिन भाषा...
jaikrishnarai tushar
150
चित्र -गूगल से साभार खिड़कियों के पार का मौसम खिड़कियों के पार का मौसम बदलता है |मगर मन के शून्य में कुछ और चलता है |यह दिसम्बर रहे या फिर जनवरी आये ,भीड़ को गोवा या केरल ,मदुरई भाये ,जहाँ दरिया है वहीं टापू निकलत...
Sandhya Sharma
229
.शाम अभी ढली नही सुबह अभी हुई नही आओ करें इंतज़ार  गुनगुनी सी धूप में ठंडी-ठंडी बयार का ढलती हुई शाम का धुंधली सी सुबह का रूठी सी चांदनी में खोये से चाँद का फूलों के मौसम में झूमती बहार का...
मुकेश कुमार
210
मौसम की आवोहवा रिश्तों पर करती है असर !ठंडी संवेदनाएंऔर जम कर बनता बरफ जैसा हो जाता है रिश्ताअंधेरी सर्द भरी रातबिलकुल घुप्प एवं ठंडी दूरी मे रहती है गर्माहटतो नज़दीकियाँ से हो जाती है सर्द ये रिश्ता भी है अजीबमौसम की आवोहवा रिश्तों पर करती है असर !कभी कभी रिश्तों...
jaikrishnarai tushar
150
चित्र -गूगल से साभार एक गीत फूलों की घाटी में मौसम  फूलों की घाटी में मौसम की हथेलियाँ रंगीं खून से |ओ सैलानी !अब मत जाना प्रकृति रौदने इस जूनून से |बे-मौसम फट गए झील में कालिदास के विरही बादल ,नहीं आचमन के लायक अब ...
ऋता शेखर 'मधु'
65
बारिश का मौसम सुहाना हैपावस ने छेड़ा तराना हैकाँधे सजते झूलते काँवरभजनों में शिव-गुण को गाना हैसुंदर पत्ते बेल के लाओशिवशंकर जी पर चढ़ाना हैसावन में चुनरी हरी लहरीहाथों में लाली रचाना हैबच्चे पन्ने फाड़ते झटपटधारा में किश्ती चलाना हैचूड़ी धानी सी खरीदे वेपरिणीता को...