ब्लॉगसेतु

विजय राजबली माथुर
74
स्पष्ट रूप से पढ़ने के लिए इमेज पर डबल क्लिक करें (आप उसके बाद भी एक बार और क्लिक द्वारा ज़ूम करके पढ़ सकते हैं )हिंदुस्तान,लखनऊ,दिनांक-15 मार्च,2013 मे प्रकाशित समाचार---11 मार्च,2013 को प्रकाशित समाचार मे मौसम विभाग की आशंका प्रकाशित हुई थी जो ज्योतिष के आंकलन के...
Rajendra kumar Singh
348
१.देखता रहा बदलते मौसम छाया अँधेरा  २.हवा के झोंके   पुल्कित पेड़-पौधे सिमट गये  ३.दिशा बदले उड़ते हुए पंक्षी लौट के आये  ४.उमड़े मेघ रिम-झिम  बारिस बरस गये  ५.धरा के रंग फैली है हरियाली सुहाना लगे  ६.अँधेरी रात बादलों की ओ...
 पोस्ट लेवल : हाइकू बारिस मौसम
अरुण कुमार निगम
203
मौसम के दोहे...जाने  को  है  शिशिर  ऋतु , आने को ऋतुराजआग जला कर झूम लें,हम तुम मिलकर आज ||सूर्य   उत्तरायण   हुए  ,  मकर  –  संक्रांति पर्वजन्में   भारत  -  देश  में ,  हमें...
girish billore
96
..............................
Chaitanyaa Sharma
294
आजकल यहाँ सतरंगी मौसम छाया है । पेड़ों  के पत्ते रंग बदल रहे हैं । पतझड़ का मौसम है तो लाल पीले रंग के पत्ते पेड़ों पर बहुत सुंदर लग रहे हैं । मैं भी कुछ पत्ते चुन लाया हूँ  और उन्हें पन्नों पर सजाया है ।  आप देखें और पहचानें कि क्या ब...
 पोस्ट लेवल : मौसम के रंग Drawing Chaitanya Sharma
ऋता शेखर 'मधु'
298
रिमझिम फुहार (भाग-१) देखने के लिए यहाँ क्लिक करें|रिमझिम फुहार (भाग-२) देखने के लिए यहाँ क्लिक करें|सारे चित्र गूगल से साभार
ऋता शेखर 'मधु'
298
HAPPY FATHER'S DAYफ़ादर्स डे के लिए स्पेशल पोस्टनीचे क्लिक करेंपिता बिना बचपन सूनारिमझिम फुहार ( भाग-१ ) देखने के लिए यहाँ क्लिक करें|सारे चित्र गूगल से साभारक्रमशः::::::::::::::
ऋता शेखर 'मधु'
298
प्रथम गर्जनबूँदों का है नर्तनझूमा है मन|सारे चित्र गूगल से साभारक्रमशः:::::::::::::
ganga dhar sharma hindustan
431
सूरज का अस्ताचल जाना, आकाश लाल कर जाता है.दिन रात के आँचल में, मुँह ढक कर के सो जाता है.अँधेरा हर ओर व्याप्त हो, अपना खेल खेलता है.काजल लुटा चुकी अबला का, सारा दर्द झेलता है.यों तो बहार का मौसम है, पर है तूफ़ान में जोश बहुत.शरबती नयन की लाज लुटा, रही तकदीर को कोस ब...
jaikrishnarai tushar
173
चित्र -गूगल से साभार एक पत्ता हरा जाने किस तरह है पेड़ पर चोंच में दाना नहीं है पंख चिड़िया नोचती है |भागते खरगोश सी पीढ़ी कहाँ कुछ सोचती है |उगलती है झाग मुँह से गाय सूखी मेंड़ पर ,एक पत्ता हरा जाने -किस तरह है पेड़ पर...
 पोस्ट लेवल : एक गीत /गाँव /मौसम