ब्लॉगसेतु

Yashoda Agrawal
3
लिख रहे हैं आपमानवता परलिखिएजी चाहेजितना होस्याही कलम मेंखतम हो जाए तो और भर लोकलम को सियाही सेसोचकर जितनाअच्छा लिखना होलिख डाले..औरकरते रहोप्रतीक्षा...उसी मानवता कीजिसकी बाट आपजोह रहे हैंआनेवाली हर गाड़ीदेख लो...सब आएँगेपर......मानवताजिसकी तुम्हें प्रतीक्षा ह...
 पोस्ट लेवल : यशोदा अग्रवाल
Yashoda Agrawal
3
क्या है...ये कविता..क्यों लिखते हैं....झांकिए भीतरअपने जिन्दगी केनजर आएगी  एकप्यारी सी कवितासुनिए ज़राध्यान से...क्या गा रही है ये कविता....देखिए इस नन्हें बालककी मुस्कुराहट कोनज़र आएगी एकप्यारी सीमुस्काती कविता....दिखने वालीसभी कविताएँजिनमें..हर्ष है औरव...
 पोस्ट लेवल : यशोदा अग्रवाल
Yashoda Agrawal
3
सोनोग्राफी क्लिनिक के अन्दरएक महिला नेथरथराते होठों सेएकान्त में..कहाघर वाले मेरा ..करवाना चाहते हैंपरीक्षणजानना चाहते वेलड़का है या फिर लड़कीअन्तरात्मा मेरीधिक्कारती है मुझकोमैडम आप ही कोई दीजिए सुझावकह दीजिए आपअगर आपने यह परीक्षण करवायातो प्रसव मैं नही...
 पोस्ट लेवल : यशोदा अग्रवाल