ब्लॉगसेतु

अनीता सैनी
0
 सादर अभिवादन। सोमवारीय प्रस्तुति में आपका स्वागत है। बदलते मौसम से बेख़बर न रहिए,हालात के तूफ़ान से बेअसर न रहिए। #रवीन्द्र_सिंह-यादव  आइए पढ़ते हैं विभिन्न ब्लॉग्स पर प्रकाशित कुछ रचनाएँ---गीत "मौसम ने ली है अँगड़ाई"...
kumarendra singh sengar
0
तुम्हारे साथ जो गुजरी वो छोटी जिंदगानी है, वही बाकी निशानी है वही बाकी कहानी है। तुम्हारे दूर जाने से न जीवन सा लगे जीवन,रुकी-रुकी सी है धड़कन न साँसों में रवानी है।तुम्हारी याद के साए में अब जीवन गुजरना है,लबों पर दास्तां तेरी इन आँखों को बरसना है।नहीं त...
 पोस्ट लेवल : यादें कविता भाई मिंटू
sahitya shilpi
0
अबिरहा सम्राट पद्मश्री हीरालाल यादव के तैल चित्र व 'नागरी' पत्रिका का लोकार्पण [साहित्य समाचार]  लोकगीतों में बिरहा को विधा के तौर पर हीरालाल यादव ने दिलाई पहचान - पोस्टमास्टर जनरल कृष्ण कुमार यादव भारतीय संस्कृति में लोकचेतना का बहुत महत्त्व है और लोकगायक इस...
kumarendra singh sengar
0
तुम हम सबको हमेशा के लिए उसी शाम छोड़कर चले गए गए थे. उस शाम से लेकर तुम्हारी पार्थिव देह के पंचतत्त्व में विलीन हो जाने तक एक आस सी जगती कि यह खबर गलत हो जाये और तुम हमेशा की तरह अपनी शैतानियों के साथ, अपने खिलंदड़ स्वभाव के साथ हम सबके बीच आ जाओ. उस झूठी आस के साथ...
अनीता सैनी
0
 सादर अभिवादन। सोमवारीय प्रस्तुति में आपका स्वागत है। बसंत की छटा बिखरने लगी है शाख़ पर पुष्प-पत्ते इतरा रहे हैं,कोहरे की श्वेत चादर ओढ़े-ओढ़ेबसुंधरा रह-रहकर मुस्करा रही है। #रवीन्द्र_सिंह_यादव आइए पढ़ते हैं विभिन्न ब्लॉग्स पर प्रकाशित कुछ...
kumarendra singh sengar
0
बचपन के वे दिन याद आ गए जबकि हम तीनों भाइयों में तुम ही सबसे चंचल, सबसे शैतान थे। शैतानी के साथ तुम्हारी मासूमियत सबको हँसा देती थी। घर के लोग तुम्हारी शैतानी भूल जाया करते थे। तुम्हारी चंचलता तुमसे शैतानियाँ करवाती रहती। किस-किस को याद करें, कितना याद करें। अब बचप...
अनीता सैनी
0
 सादर अभिवादन। सोमवारीय प्रस्तुति में आपका स्वागत है। यह  सरसराती चलती हाड़ कँपाती शीत-लहर,झेल जाएँगे आंदोलनकारी किसानपर देश याद रखेगा सरकारी क्रूरता का क़हर।-रवीन्द्र सिंह यादव   आइए पढ़ते हैं विभिन्न ब्लॉग्स पर प्रकाशित कुछ रचनाएँ...
Atul Kannaujvi
0
Tv Actor Hetal Yadav was completely taken aback this morning when she was accosted by a young lady who recognised her inspite of the now mandatory mask!This extraordinarily committed fan waited an hour outside a shop while Hetal was seen shopping in Bangalore. Appa...
अनीता सैनी
0
 सादर अभिवादन। सोमवारीय प्रस्तुति में आपका स्वागत है। सर्दियों की धूप का आलम लगता बहुत प्यारा हमें,कुहाँसा चीर निकला भानु लगता बहुत न्यारा हमें। -रवीन्द्र सिंह यादव आइए अब पढ़ते हैं विभिन्न ब्लॉग्स पर प्रकाशित चंद रचनाएँ- --&n...
kumarendra singh sengar
0
इंसान कितनी भी कोशिश कर ले वह अपने अतीत से मुक्त नहीं हो पाता है. अतीत की घटनाएँ यदि सुखद हैं तो वह उन्हें याद कर-कर के खुश होता रहता है और यदि घटनाएँ दुखी करने वाली होती हैं तो वह व्यथित हो जाता है. मन बहुत बार बिना किसी प्रयास के अतीत की सैर कर आता है और कई बार क...