ब्लॉगसेतु

Asha News
89
झाबुआ। युवा शक्ति संगठन की जिला इकाई झाबुआ द्वारा रोटी बैंक की स्थापना की जा रही है। जिसके माध्यम से घर-घर जाकर भोजन सामग्री एकत्रित कर स्टाॅल लगाकर निर्धन और जरूरमंदो को वितरित की जाएगी।         जानकारी देते हुए संगठन के जिलाध्यक्ष घन...
Ashok Kumar
157
असुविधा हमेशा से युवा साथियों का मंच रहा है. हमारी कोशिश रही है कि एकदम ताज़ा स्वरों को यहाँ प्रस्तुत किया जाए. अहमद फ़हीम की कविताएँ मुझे कुछेक दिन पहले मेल पर मिलीं. ये एकदम से चौंकाने वाली कविताएँ नहीं हैं, बल्कि उन कविताओं में से हैं जो धीरे-धीरे असर कर...
 पोस्ट लेवल : युवा कविता अहमद फ़हीम
Ashok Kumar
157
जवाहरलाल नेहरू विश्वविद्यालय से मीडिया स्टडीज़ में पीएचडी कर रहे अक्षत उन अर्थों में तो कवि एकदम नहीं हैं, जिन्हें सोशल मीडिया विस्फोट ने परिभाषित किया है. मसलन आप उनकी फेसबुक टाइमलाइन पर अक्सर कविता नहीं पाएँगे, साहित्य भी नहीं के बराबर. लेकिन अपने एक्टिविस्ट जीवन...
 पोस्ट लेवल : अक्षत सेठ युवा कविता
kumarendra singh sengar
30
देश में आमतौर पर एक धारणा बनी हुई है राजनीति को गाली देने की. राजनीति को गाली देने के साथ ही साथ राजनेताओं को भी गाली दी जाने लगती है. इस क्रम में यह तो आसानी से स्वीकारा जा सकता है कि आज ज्यादातर नेता भ्रष्टाचार में आकंठ डूबे हैं, अधिकतर किसी न किसी प्रकार के घोटा...
kumarendra singh sengar
30
अक्सर किसी न किसी बड़े-बुजुर्ग के द्वारा समझाने की नीयत से ऐसा कहा जाता है कि सपने बड़े देखने चाहिए, महत्त्वाकांक्षा बड़ी होनी चाहिए. यदि सपने बड़े होंगे, महत्त्वाकांक्षा बड़ी होगी तो उसके लिए प्रयास करने के दौरान अन्य सपने या महत्त्वाकांक्षा पूरी हो सकती है. संभव है कि...
kumarendra singh sengar
30
सन 2014 के बाद जैसे ही केंद्र में सत्ता परिवर्तन हुआ वैसे ही बहुत सारे लोगों ने राष्ट्र, राष्ट्रवाद देशभक्ति के बारे में अपने-अपने मानक तय करने आरम्भ कर दिए. ऐसा नहीं कि इसमें विपक्ष ही शामिल रहा बल्कि सत्ता पक्ष की तरफ से भी इस तरह के मानक बनाये जाते दिखे. बावजूद...
कुमार मुकुल
219
युवाल नोआ हरारी की विश्‍वप्रसिद्ध पुस्‍तक 'सेपियन्‍स' का अनुवाद अब हिंदी में उपलब्‍ध है। सेपियन्‍स रोचक ढंग से 'मानव जाति का संक्षिप्‍त इतिहास' हमारे सामने रखती है। पुस्‍तक इस माने में अनोखी है कि मानव जाति के पूरे वैज्ञानिक विकास क्रम को सामने रखते हुए यह हमें आ...
Asha News
89
झाबुआ। स्वामी विवेकानंद का जन्म दिन 12 जनवरी युवा दिवस के रूप में मनाया जाता है। इस दिन जिले की सभी शिक्षण संस्थाओं में प्रातः 9 बजे से प्रातः 10.30 बजे तक उत्कृष्ट विद्यालय के मैदान मे सामूहिक सूर्य नमस्कार का आयोजन किया जायेगा। शासन द्वारा दिये गये निर्देशों के अ...
कुमार मुकुल
409
अपनी विश्‍व प्रसिद्ध पुस्‍तक 'सेपियन्‍स' में युवाल नोआ हरारी संस्‍कृति और तथाकथित मनुष्‍यता पर सवाल उठाते  लिखते हैं -" ...हमारी प्रजाति, जिसे हमने निर्लज्‍ज ढंग से होमो सेपियन्‍स, यानि 'बुद्धिमान मनुष्‍य' नाम दे  रखा है।" अनिल अनलहातु की कविताओं में...
kumarendra singh sengar
30
प्रेम शब्द जितना गलत समझा जाता है, उतना शायद मनुष्य की भाषा में कोई दूसरा शब्द नहीं! प्रेम के संबंध में जो गलत-समझी है, उसका ही विराट रूप इस जगत के सारे उपद्रव, हिंसा, कलह, द्वंद्व और संघर्ष हैं. प्रेम की बात इसलिए थोड़ी ठीक से समझ लेनी जरूरी है. जैसा हम जीवन जीते...