ब्लॉगसेतु

ज्योति  देहलीवाल
0
कहा जाता हैं कि राखी के कच्चे धागे में बहुत ताकत होती है। राखी के इसी कच्चे धागे का इस्तेमाल कर एक बहन ने अपने भाई मल्ला तामो को नक्सलियों की खुन-ख़राबे की दुनिया से अलविदा कहकर समर्पण करने मजबूर किया। सब कुछ बिल्कुल फिल्मी स्टाइल में ही, लेकिन हकीकत में हुआ। यह कहा...
ज्योति  देहलीवाल
0
''मम्मी, मेरे स्कूल में राखी बनाओं स्पर्धा हैं। उसके लिए मुझे राखी की कोई अच्छी सी डिजाइन बताकर उसे बनाना सिखाओं न...'' सातवी कक्षा में पढ़ने वाली अनिता ने कहा। मैं कुछ बोलती उसके पहले ही सासू जी बोल पड़ी- ''तू क्या करेगी राखी बनाना सीख कर? तेरा तो कोई भाई ही नहीं है...
Nikhil Jain
0
भाई-बहन के प्रेम  में तो बयान नहीं  किया जा सकता लेकिन फिर भी प्यार को जताने के लिए कुछ शब्दो की जरूरत होती ही है। ऐसे ही कुछ शब्द ,विचार (Quotes) यहाँ पर दिए गए है जिसे आप अपने भाई-बहन को अपनी तरफ से प्यार जाहिर करने के लिए उनके साथ शेयर कर सकते है। आपको...
रविशंकर श्रीवास्तव
0
..............................
Kailash Sharma
0
राखी नहीं है रेशम धागा,इसमें कितना प्यार भरा है।बचपन की मीठी यादों कापूरा इक संसार भरा है।बहन भाई का प्यारा रिश्ता,करता है सुदृढ रक्षा बंधन।कितने भी वे दूर हों चाहे,आता याद प्यार का बंधन।बंधा रहे रेशम डोरी में,भाई बहन का प्यार सदा ही।खुशियाँ बरसें भाई के घर में,करे...
विजय राजबली माथुर
0
' ब्रह्मसूत्रेण पवित्रीकृतकायाम् ' यह लिखा है कादम्बरी में सातवीं शताब्दी में आचार्य बाणभट्ट ने.अर्थात  महाश्वेता ने जनेऊ पहन रखा है, तब तक लड़कियों का भी उपनयन होता था.(अब तो सबका उपहास अवैज्ञानिक कह कर उड़ाया जाता है).श्रावणी पूर्णिमा अर्थात रक्षा बंधन पर...
Rajendra kumar Singh
0
रक्षा बंधन  एक ऐसा पवित्र पर्व है, जो धर्म और वर्ग के भेद से हटकर भाई-बहन के स्नेह की अटूट डोर का प्रतीक है। बहन द्वारा भाई को राखी बांधने से दोनों के मध्य विश्वास और प्रेम का जो रिश्ता बनता है, उसे शब्दों में व्यक्त नहीं किया जा सकता है।हर लड़की कि...
 पोस्ट लेवल : रक्षा बंधन बधाइयाँ
अविनाश वाचस्पति
0
रक्षा बंधन का दायरा व्‍यापक और प्रासंगिकता खतरों के हद दर्जे तक खतरनाक होने से बढ़ गई है। जिसके कारण सगा भाई भी रक्षा करने की हामी तो नहीं भरता परंतु धन खूब दे देता है। धन के कारण ही आबरू खतरे में है और धन ही इससे मुक्ति का वाहक बन गया है। रक्षा बंधन हो या भैया दूज...
विजय राजबली माथुर
0
आना-जाना ,नौ घंटे जाब करना और फिर पार्टी आफिस मे जिला मंत्री जी को सहयोग करना इन सब मे काफी समय लगता था एवं शालिनी को भी साइकिल पर जाना-आना पड़ता था,अतः उनके अपने आठ हजार रुपए से एक मोपेड़ लेने का ज़ोर था। ये रुपए उनके बचपन मे उनके सबसे बड़े निसंतान ताउजी द्वारा पो...
रेखा श्रीवास्तव
0
rakshaa बंधन हम एक पर्व की तरह से मनाते हैं एक निश्चित दिन लेकिन ये एक अहसास भी है - बहन के द्वारा भाई की कलाई पर बंधा हुआ रेशमी धागा इस बात का प्रतीक है कि बहन ने भाई को अपने रक्षा दायित्व में बाँध लिया है लेकिन उस दायित्व को निभाना भी एक बहूत बड़ा काम होता है...
 पोस्ट लेवल : बहन रक्षा बंधन और भाई