ब्लॉगसेतु

वंदना अवस्थी दुबे
362
पिछले एक साल में बहुत सारी पुस्तकें इकट्ठा हो गयीं, पढ़ने के लिये, और फिर लिखने के लिये. न बहुत पढ़ पाई, सो लिख भी नहीं पाई. अब एक-एक करके पढ़-लिख रही हूं. रश्मि का कहानी-संग्रह, ’बन्द दरवाज़ों का शहर’ प्रकाशित होते ही ऑर्डर कर दिया था. कुछ कहानियां पढ़ भी ली थीं, लेकिन...
kumarendra singh sengar
693
“आंचलिक बोली के चुटीलेपन के साथ रोजमर्रा की छोटी-छोटी घटनाओं के ताने-बाने से बुनी इस कथा में हर लड़की कहीं-न-कहीं अपना चेहरा देख पाती है. यही इस उपन्यास की सार्थकता है.” सुधा अरोड़ा द्वारा रश्मि रविजा के पहले उपन्यास ‘काँच के शामियाने’ भूमिका की मानिंद लिखी ये पंक्ति...
अर्चना चावजी
483
यहाँ आपको मिलेंगी सिर्फ़ अपनों की तस्वीरें जिन्हें आप सँजोना चाहते हैं यादों में.... ऐसी पारिवारिक तस्वीरें जो आपको अपनों के और करीब लाएगी हमेशा...आप भी भेज सकते हैं आपके अपने बेटे/ बेटी /नाती/पोते के साथ आपकी तस्वीर मेरे मेल आई डी- archanachaoji@gmail.com पर साथ...
 पोस्ट लेवल : रश्मि रविजा
अर्चना चावजी
483
यहाँ आपको मिलेंगी सिर्फ़ अपनों की तस्वीरें जिन्हें आप सँजोना चाहते हैं यादों में.... ऐसी पारिवारिक तस्वीरें जो आपको अपनों के और करीब लाएगी हमेशा...आप भी भेज सकते हैं आपके अपने बेटे/ बेटी /नाती/पोते के साथ आपकी तस्वीर साथ ही आपके ब्लॉग की लिंक ......बस शर्त ये है...
 पोस्ट लेवल : रश्मि रविजा
अनूप शुक्ल
40
रश्मि रविजा का ब्लॉग हैं अपनी उनकी सबकी बात  . बैक 2 बैक दो पोस्ट हैं इतना मुश्किल क्यूँ होता है "ना " कहना लड़कियों की उड़ान किसी इत्तफाक़ का मोहताज़ नहीं....पहली पोस्ट में रश्मि ने "माताओं-पिताओं द्वारा अपने ही बच्चों के पालन-पोषण में विभ...
वंदना अवस्थी दुबे
362
23 दिसम्बर 2011-हम तीनों, मैं उमेश जी और विधु इन्दौर जाने के लिये तैयार.... लेकिन ट्रेन होते-होते छह घंटे लेट हो गयी नेट पर रेलवे का रनिंग इन्फ़ॉर्मेशन चार्ट खुला था, लगातार. सोचा चलो मेल ही चैक की जाए. संयोग से रश्मि ( रविजा) ऑन लाइन मिल गयी. बातचीत हो गयी. थ...