ब्लॉगसेतु

sanjiv verma salil
0
सावनी घनाक्षरियाँ :सावन में झूम-झूमसंजीव वर्मा "सलिल"*सावन में झूम-झूम, डालों से लूम-लूम,झूला झूल दुःख भूल, हँसिए हँसाइये. एक दूसरे की बाँह, गहें बँधें रहे चाह,एक दूसरे को चाह, कजरी सुनाइये..दिल में रहे न दाह, तन्नक पले न डाह,मन में भरे उछाह, पेंग को बढ़ाइए.राखी की...
sanjiv verma salil
0
दोहा सलिला: अलंकारों के रंग-राखी के संगसंजीव 'सलिल'*राखी ने राखी सदा, बहनों की मर्याद.संकट में भाई सदा, पहलें आयें याद..राखी= पर्व, रखना.*राखी की मक्कारियाँ, राखी देख लजाय.आग लगे कलमुँही में, मुझसे सही न जाय..राखी= अभिनेत्री, रक्षा बंधन पर्व.*मधुरा खीर लिये हु...
 पोस्ट लेवल : doha rakhi राखी संजीव दोहा sanjiv
जेन्नी  शबनम
0
रिश्तों की डोर  (राखी पर 10 हाइकु)  *******  1.  हो गए दूर  संबंध अनमोल  बिके जो मोल!  2.  रक्षा का वादा  याद दिलाए राखी  बहन-भाई!  3.  नाता पक्का-सा  भाई की कलाई में  सूत कच्चा-सा!  4. &nbs...
 पोस्ट लेवल : हाइकु राखी
sanjiv verma salil
0
लघुकथा:समय की प्रवृत्ति  *'माँ! मैं आज और अभी वापिस जा रही हूँ।'  "अरे! ऐसे... कैसे?... तुम इतने साल बाद राखी मनाने आईं और भाई को राखी बाँधे बिना वापिस जा रही हो? ऐसा भी होता है कहीं? राखी बाँध लो, फिर भैया तुम्हें पहुँचा आयेगा।"'भाई इस लायक कहाँ रहा कहाँ...
सरिता  भाटिया
0
राखी कह या श्रावणी, पावन यह त्योहार।कच्चे धागों से बँधा ,भाई बहन का प्यार।।थाली लेकर शगुन की,बहन सजाये भोर।रोली से टीका किया, बाँधी रेशम डोर।।रेशम की ये डोरियाँ , कच्चे धागे चार।सच्चा रिश्ता प्रीत का, निश्छल पावन प्यार।।धागे कच्चे हैं मगर, लेकिन पक्की प्रीत।बहना से...
girish billore
0
..............................
 पोस्ट लेवल : राखी पेड़ पौधों
Kavita Rawat
0
..............................
 पोस्ट लेवल : कविता राखी रक्षाबंधन
girish billore
0
               संभागीय बालभवन के बच्चों द्वारा इन दिनों सुश्री रेशम ठाकुर के मार्गदर्शन में राखियों का निर्माण किया जा रहा है. बच्चे ये राखियाँ बालभवन परिसर में लगे पेड़ों को दिनांक 5 अगस्त 2017 क...
 पोस्ट लेवल : राखी वृक्षों रक्षक
सरिता  भाटिया
0
कहती बहना वीर से , ह्रदय रखो ना खोट जल्दी लगवाओ तिलक, और दिखाओ नोट |और दिखाओ नोट, फ़ोन है लेना भैया व्हाट्सएप्प उसमें चले ,पार लगे तभी नैया चैट करें सब दोस्त , देखती उनको रहती भैया सुनो गुहार ,प्यार से बहना कहती |कच्चा धागा प्रेम का ,लाया पक्की प...
sanjiv verma salil
0
लघुकथा पहल *आपके देश में हर साल अपनी बहिन की रक्षा करने का संकल्प लेने का त्यौहार मनाया जाता है फिर भी स्त्रियों के अपमान की इतनी ज्यादा घटनाएँ होती हैं। आइये! अपनी बहिन के समान औरों की बहनों के मान-सम्मान की रक्षा करने का संकल्प भी रक्षबंधन पर हम सब लें।...