ब्लॉगसेतु

sanjiv verma salil
0
अंजुमन। उपहार। काव्य संगम। गीत। गौरव ग्राम। गौरवग्रंथ। दोहे। पुराने अंकसंकलन। अभिव्यक्ति। कुण्डलिया। हाइकु। हास्य व्यंग्य। क्षणिकाएँ। दिशांतरबंधनों से मुक्त हो जा बंधनों से मुक्त हो जाकह रही राखी...
 पोस्ट लेवल : संजीव राखी गीत sanjiv rakhi geet
सरिता  भाटिया
0
छुट्टी ले भाई गया ,राखी का त्यौहार भाई बहना हैं मिले, निश्चल पावन प्यार |कैसे भला निभा सके, राखी का त्यौहार छूट गई है नौकरी ,महँगाई की मार |राखी का त्यौहार है, सजे हुए बाजार बहना धागा बाँधती ,भाई करे दुलार ||रंग बिरंगी राखियाँ ,कहती सदा पुकार कच...
sanjiv verma salil
0
लघुकथा पहल *आपके देश में हर साल अपनी बहिन की रक्षा करने का संकल्प लेने का त्यौहार मनाया जाता है फिर भी स्त्रियों के अपमान की इतनी ज्यादा घटनाएँ होती हैं। आइये! अपनी बहिन के समान औरों की बहनों के मान-सम्मान की रक्षा करने का संकल्प भी रक्षबंधन पर हम सब लें। विदेशी पर...
sanjiv verma salil
0
राखी पर एक रचनाबंधनों से मुक्त हो जा*बंधनों से मुक्त हो जाकह रही राखी मुखर होकभी अबला रही बहिनाबने सबला अब प्रखर होतोड़ देना वह कलाईजो अचाहे राह रोकेकाट लेना जुबां जोफिकरे कसे या तुझे टोंकेसासरे जा, मायके सेटूट मत, संयुक्त हो जाकह रही राखी मुखर ह...
Krishna Kumar Yadav
0
बिहार की राजधानी पटना. स्मार्ट सिटी की दौर में शामिल होने को बेताब. कॉलेज  कैंपस से लेकर रेलवे स्टेशन तक वाई-फाई कनेक्टिव. मैं कंकड़बाग स्थित अशोक नगर में शनिवार को अपने आवास पर फेसबुक व टविटर पर अंगुलियां चला रहा था. तभी अचानक कॉल बेल  की आवाज गूंजी. छोट...
अर्चना चावजी
0
याद आता है जब क्रोशिया सीखा था ...बहुत मुश्किल और बोरिंग लगता था ... अब मेरे हॉबी बन गया है -बेहतरीन टाईम पास ये आजकल की पसंद थोड़ी कठिन है ये -- कुछ नमूने -ये दोनों तरफ से उपयोगी है -और इसे अभी पूरा होना है -
 पोस्ट लेवल : राखी
Krishna Kumar Yadav
0
राखी और पोस्ट ऑफिस का सम्बन्ध बहुत पुराना है।  यही कारण है कि रक्षाबंधन के समय डाकघरों में राखियाँ भेजने वालों की लंबी कतारें लगती हैं और सिर्फ देश ही नहीं विदेशों में भी खूब राखियाँ भेजी जा रही हैं। राखी का धागा ऑनलाइन होते  इस युग में  आज भी अपनी अ...
Kajal Kumar
0
दिनेशराय द्विवेदी
0
राखी स्नेहपूर्ण मृदुल त्यौहार है। एक युग था जब इसे रक्षा के त्यौहार के रूप में मनाया जाता था। लेकिन उस रूप में उस का महत्व तभी तक रह सकता है जब कि समाज में रक्षक और अरक्षित दोनों हों और रक्षा का दायित्व निभाने को तैयार हों। राखी को भाई-बहन के मधुर सम्बन्धों से भी ज...
 पोस्ट लेवल : Rakhi राखी
sanjiv verma salil
0
दोहा सलिला:*रक्षा किसकी कर सके, कहिये जग में कौन?पशुपतिनाथ सदय रहें, रक्षक जग के मौन *अविचारित रचनाओं का, शब्दजाल दिन-रात छीन रहा सुख चैन नित, बचा शारदा मात* अच्छे दिन मँहगे हुए, अब राखी-रूमाल श्रीफल कैसे खरीदें, जेब करे हड़ताल *कहीं मूसलाधार है, कहीं न्यून बर...
 पोस्ट लेवल : doha rakhi राखी संजीव दोहा sanjiv