ब्लॉगसेतु

शिवम् मिश्रा
34
 शिवराम हरि राजगुरु (मराठी: शिवराम हरी राजगुरू, जन्म:२४ अगस्त १९०८ - मृत्यु: २३ मार्च १९३१) भारतीय स्वतंत्रता संग्राम के एक प्रमुख क्रान्तिकारी थे । इन्हें भगत सिंह और सुखदेव के साथ २३ मार्च १९३१ को फाँसी पर लटका दिया गया था । भारतीय स्वतंत्रता संग्राम...
kumarendra singh sengar
30
सन 2014 के बाद जैसे ही केंद्र में सत्ता परिवर्तन हुआ वैसे ही बहुत सारे लोगों ने राष्ट्र, राष्ट्रवाद देशभक्ति के बारे में अपने-अपने मानक तय करने आरम्भ कर दिए. ऐसा नहीं कि इसमें विपक्ष ही शामिल रहा बल्कि सत्ता पक्ष की तरफ से भी इस तरह के मानक बनाये जाते दिखे. बावजूद...
शिवम् मिश्रा
34
"…व्यक्तियो को कुचल कर , वे विचारों को नहीं मार सकते।"- शहीद ए आज़म सरदार भगत सिंह जी  ८८ वें बलिदान दिवस पर अमर शहीद सरदार भगत सिंह जी , सुखदेव जी और राजगुरु जी को शत शत नमन ! इंकलाब ज़िंदाबाद !!
शिवम् मिश्रा
34
 शिवराम हरि राजगुरु (मराठी: शिवराम हरी राजगुरू, जन्म:२४ अगस्त १९०८ - मृत्यु: २३ मार्च १९३१) भारतीय स्वतंत्रता संग्राम के एक प्रमुख क्रान्तिकारी थे । इन्हें भगत सिंह और सुखदेव के साथ २३ मार्च १९३१ को फाँसी पर लटका दिया गया था । भारतीय स्वतंत्रता संग्राम क...
रणधीर सुमन
15
राष्ट्रीय स्वयं सेवक संघ  ने शहीद राजगुरु को अपना संघी  बता दिया है। एक संघ प्रचारक नरेंद्र सहगल की किताब में इस बात का दावा किया गया है। नरेंद्र सहगल हरियाणा में विद्यार्थी परिषद  के संगठन मंत्री रहे हैं। दरअसल नरेंद्र सहगल की किताब ‘भारतवर्ष की...
शिवम् मिश्रा
34
 ८७ वें बलिदान दिवस पर अमर शहीद सरदार भगत सिंह जी , सुखदेव जी और राजगुरु जी को शत शत नमन ! इंकलाब ज़िंदाबाद !!
आदित्य शुक्ला
574
आसमान के किसी कोने से झांकती-ताकती होंगी,इस देश को निहारती होंगी,भगत, राजगुरू और सुखदेव की रूहें,फूट फूट कर रोती होंगी,और सिसकते हुये सहसा कह उठती होंगी,देखो साथियों इसलिए हम झूले थे फांसी पर,देखो कैसे हमको-तुमको,हम सब साथियों को,बाँट लिया है,इन्होने राजनीति करने क...
विजय राजबली माथुर
96
  बटुकेश्वर दत्त (१८ नवंबर १९०८ - २० जुलाई १९६५) : बटुकेश्वर दत्त एक प्रसिद्ध क्रान्तिकारी हैं जिनका जन्म  18 नवम्बर, 1908 में कानपुर में हुआ था। उनका पैतृक गाँव बंगाल के 'बर्दवान ज़िले ' में था, पर पिता 'गोष्ठ बिहारी दत्त ' कानपुर में नौकरी करत...
शिवम् मिश्रा
6
नमस्कार साथियो, आज 23 मार्च, शहीद दिवस. देश की आज़ादी के लिए तीन युवा बेटे भगत सिंह, सुखदेव और राजगुरु को आज ही के दिन अंग्रेजी हुकूमत ने फाँसी दे दी थी. तीनों वीर पुत्रों को श्रद्धा-सुमन अर्पित हैं. इन तीन शहीदों के बारे में शायद ही ऐसा कुछ हो जो कोई न जानता हो. उन...
शिवम् मिश्रा
34
 ८६ वें बलिदान दिवस पर अमर शहीद सरदार भगत सिंह जी , सुखदेव जी और राजगुरु जी को शत शत नमन !  इंकलाब ज़िंदाबाद !!