ब्लॉगसेतु

दयानन्द पाण्डेय
68
..............................
 पोस्ट लेवल : राजनीति
kumarendra singh sengar
26
हाँ, हमें आज बीस-पच्चीस रुपये की सब्जी के साथ कुछ धनिया-मिर्च मुफ्त नहीं मिल रहा है. हाँ, आज हमें पेट्रोल, डीजल मुफ्त के भाव नहीं मिल रहा है. हाँ, आज हमें बहुत सी चीजें आज से कुछ वर्षों के पहले की तुलना में महंगी मिल रही हैं. इसके बाद भी बहुत से लोगों को आज की स्थि...
यूसुफ  किरमानी
210
जम्मू कश्मीर में 5 अगस्त को जब भारत सरकार ने धारा 370 खत्म कर दी और सभी प्रमुख दलों के नेताओं को गिरफ्तार कर लिया गया तो उन नेताओं में सीपीएम के राज्य सचिव और कुलगाम से विधायक यूसुफ तारिगामी भी थे। उनकी नजरबंदी को जब  एक महीना हो गया तो सीपीएम नेता सीताराम येच...
दयानन्द पाण्डेय
68
..............................
 पोस्ट लेवल : राजनीति
दयानन्द पाण्डेय
68
..............................
 पोस्ट लेवल : राजनीति
यूसुफ  किरमानी
210
ये अमित शाह को क्या हो गया है...क्या उन्हें देश के भूगोल का ज्ञान नहीं है... आज सुबह-सुबह बोल पड़े हैं कि एक देश एक #भाषा होनी चाहिए। जो देश एक भाषा नहीं अपनाते वो मिट जाते हैं... अगर वो - एक देश - तक अपनी बात कहकर चुप रहते तो ठीक था लेकिन जिस देश में हर पांच कोस...
 पोस्ट लेवल : भाजपा राजनीति संघ
यूसुफ  किरमानी
210
आप लोगों का यह शक सही लग रहा है कि हो न हो भारत की अर्थव्यवस्था के खिलाफ कांग्रेसी नेता, कश्मीरी अवाम और पाकिस्तान मिलकर कोई साज़िश कर रहे हैं।...लेकिन मोदी सरकार ने गिरती अर्थव्यवस्था को संभालने के लिए जिस तरह कांग्रेस नेताओं को गिरफ़्तार किया है, जिस तरह कश्मीर म...
यूसुफ  किरमानी
210
कांग्रेस और राहुल गांधी की हालत बेचारे मुसलमानों जैसी हो गई है।...जिन पर कभी तरस तो कभी ग़ुस्सा आता है।राहुल का आज का ट्वीट ही लें...वह फ़रमा रहे हैं कि भले ही तमाम मुद्दों पर मेरा सरकार के साथ मतभेद है लेकिन मैं यह स्पष्ट कर देना चाहता हूँ कि कश्मीर भारत का अभिन्न...
सुनीता शानू
401
रिश्ते निभाये जा रहे हैं सीलन, घुटन और उबकाई के साथरिश्ते निभाये जा रहे हैं दूषित बदबूदार राजनीति के साथरिश्तों में नही दिखती जरूरत अपनापनरिश्ते दिखने लगे हैं दंभ के चौले सेमेरी तमाम कोशिशें नाकाम करने की ख़्वाहिश मेंरिश्तों ने ओढ़ ली है काली स्याह चादरडर...
यूसुफ  किरमानी
210
कश्मीर डायरी/ बहुत पुरानी कहानी नहीं है..............................इराक़ में सद्दाम हुसैन की हुकूमत थी। सद्दाम इराक़ के जिस क़बीले या ग्रुप से था वह अल्पसंख्यक है। इसके बावजूद उसका बहुसंख्यक शिया मुसलमानों पर शासन था। वहाबी विचारधारा से प्रभावित होने की वजह...