ब्लॉगसेतु

Pratibha Kushwaha
479
निर्भया जैसे भीभत्स कांड के बाद, और सख्त कानून बनने, कई तरह की गाइड लाइन जारी होने के बावजूद कई जघन्य अपराध हो चुके हैं और भी होने की पूरी संभावना है।प्रश्न है कि देश के नियंता माननीय अब तक महिलाओं के प्रति होने वाले अपराधों के प्रति जरा भी संवेदनशील क्यों नहीं हुए...
kumarendra singh sengar
19
चुनाव की तिथियाँ घोषित होने के आसार पहले से ही थे और उसी के हेरफेर में आखिरकार उत्पाती गैंग, लोटा गैंग ने अपना कारनामा दिखा दिया. जेएनयू में पंजीकरण के नाम पर उत्पात किया गया उसके बाद उन्हीं उत्पातियों को अपनी तरह से दूसरे गैंग ने सबक भी सिखाया. पंजीकरण रोकने को मच...
Bharat Tiwari
25
जेनयु  हिंसा: नए दुश्मन तलाशती सर्वनाशी राजनीति— प्रताप भानु मेहतायह तिहरे अर्थ में सर्वनाशी है. मीडिया के सहयोग से गृह मंत्री के बढ़ावे से “टुकड़े टुकड़े गैंग” मुहावरे का सामान्यिकरण किये जाने ने, बहसों में इस तरह की हिंसा की ज़मीन तैयार की. प्रताप भानु मेह...
आदित्य शुक्ला
565
Source: https://economictimes.indiatimes.com/img/73131081/Master.jpgसोमवार को चुनाव आयोग ने दिल्ली के दंगल का तिथियां निर्धारित कर दीं। 8 फरवरी को दिल्ली में 70 विधानसभा सीटों के लिए वोट डाले जायेंगे। 11 फरवरी को चुनाव परिणाम आना है, जोकि मंगलवार है। ऐसे में य...
दयानन्द पाण्डेय
70
..............................
 पोस्ट लेवल : राजनीति
यूसुफ  किरमानी
196
एनपीआर जो है वो एनआरसी से ख़तरनाक कैसे है...आज हमने काफ़ी वक्त एनपीआर को समझने में लगाया, जिसके बारे में सरकार ने कल विस्तार से जानकारी दी थी...जब आप एनपीआर को पढ़ना शुरू करेंगे तो आपको सब कुछ अच्छा और आसान लगेगा लेकिन अगर आप उस लाइन को भी सरसरी तौर पर पढ़ कर आगे ब...
सुशील बाकलीवाल
328
मत बांधिए जंजीरें मेरे वतन के पैरों में,यह एक परिंदा है इसे आजाद रहने दीजिए...-डॉ. विमलसिंह.       मै कल एक सोसायटी में अपने पुराने मित्र से मिलने गया, सोसायटी के चौकीदार ने मुझे रोककर रजिस्टर खोला जिसमें पहले मेरा नाम, मोबाईल नंबर, वि...
सुशील बाकलीवाल
328
      इस समय देश में जिस अफरातफरी का माहौल बना हुआ है इसमें हर उस राज्य में जहाँ BJP का शासन है वहाँ जमकर हिंसा, आगजनी, तोडफोड और जो भी सामने आए उसे नष्ट करदो का जो माहौल बनाया हुआ है क्या यह सिर्फ नागरिकता संशोधन विधेयक के खिलाफ निकाला जा...
यूसुफ  किरमानी
196
किनारे पर खड़े लोगों, बस इतना ध्यान में रखनासमंदर ज़िद पे आयेगा, तो सबके घर डुबो देगा।-हुसैन हैदरी, शायर, फ़िल्म गीतकारkinaare par khade logon, bas itna dhyaan mein rakhnasamandar zidd pe aayega, to sabke ghar dubo dega-Hussain Haidry, Poet, Film Lyristवह लोग जो अभ...
दयानन्द पाण्डेय
70
..............................
 पोस्ट लेवल : राजनीति