ज़िम्मेदारी के अभाव का घूँट, अस्पताल का मुख्यद्वार पी रहा,  व्यवस्था के नाम पर, दम तोड़तीं टूटीं खिड़कियाँ,  दास्तां अपनी सुना रहीं, विवशता दर्शाती चौखट,  दरवाज़े को हाँक रही, ख़राब उपकरणों की सजावट, ...