ब्लॉगसेतु

rishabh shukla
434
रास्ते जीवन की डगर पर मुश्किलें कई है,बस है चलते जानाlइसने तो निकलने का,कोई तो रास्ता होगाllयदि कोई मुँह मोड़ ले,इस मुश्किल घड़ी मे ना घबरानाlकोई मिले तुमसे अगर, कोई तो वास्ता होगाllमेरे मन की - https://meremankee.blogspot.com/घुमन्तू - https://th...
Yashoda Agrawal
3
जो दिखता है वो होता तो नहीं हैजो होता है वो सोचा तो नहीं हैचमकती दूर की हर चीज अक्सरदिखे सोना वो सोना तो नहीं हैहमेशा मुसेकुराता देखा जिसकोवही छुप-छुप के रोता तो नहीं हैमुहब्बत से बने इक आशियाँ मेंकोई तन्हा भी खोया तो नहीं हैनज़र बोतते हैं बात दिल कीज़ुबां अबतक ये...
मधुलिका पटेल
547
मीलों दूर तक पसरे हुए ये रास्तेकभी कभी बोझिल हो जाते हैं कदम जाने पहचाने रास्तों को देर नहीं लगती अजनबी बनने में जब सफर होता है तन्हाऔर मंज़िलें होती गुमरौशनी में नहाये हुए बाज़ार रौनकों से सजी हुई दुकाने पर मैं कुछ अलहदा ढूंढ़ रही हूँ खर...
मधुलिका पटेल
547
सोचना समझना और चलना उन रास्तों पर पर फिर कभी न निकल पाना उन बंधनो से जो वक़्त के साथ बंधते और कस्ते जाते हैं |एक अजगर की पकड़ की तरह जहाँ दम घुटने के अलावा कुछ नहीं है जो दिन रात आपका सुख चैन निगल रहा है और धीरे - धीरे आपको भी |पर ज़िन्दगी अगर...
Sanjay  Grover
606
‘चुन्नी कहां हैं ? मेरी चुन्नी कहां है ?’ बाहर से घंटी बजती और माताजी घबरा जाते ; हालांकि सलवार-कमीज़ पहने हैं, स्वेटर पहने हैं, ज़ुराबें पहने हैं, कई-कई कपड़े पहने हैं मगर संस्कार, डर, कंडीशनिंग....मैं तो कहूंगा कि बुरी आदत, थोपा गया आतंक.... और चुन्नी भी कई बार बिलक...
Kheteswar Boravat
45
..............................
Kheteswar Boravat
45
..............................
Kheteswar Boravat
45
..............................
Kheteswar Boravat
45
..............................
Kheteswar Boravat
45
..............................