ब्लॉगसेतु

sahitya shilpi
0
पीली रोशनी का समंदर [कहानी]-विपिन पवार  लाल, पीला, दोहरा पीला, हरा – सिगनलों के यही रंग तो उसे साथ देते हैं रात के घने अंधियारे में । जब नामदेव अकेला चमड़े की बड़ी-सी थैली में 10 पटाखों से भरा एक डिब्‍बा, एक हाथ सिगनल बत्‍ती, टार्च, माचिस रखकर, कमीज की ऊपरी जे...
विजय राजबली माथुर
0
स्पष्ट रूप से पढ़ने के लिए इमेज पर डबल क्लिक करें (आप उसके बाद भी एक बार और क्लिक द्वारा ज़ूम करके पढ़ सकते हैं
विजय राजबली माथुर
0
स्पष्ट रूप से पढ़ने के लिए इमेज पर डबल क्लिक करें (आप उसके बाद भी एक बार और क्लिक द्वारा ज़ूम करके पढ़ सकते हैं ) Anil Sinha1 hr ( 14-08-2019 )अगस्त, 1947 में जब पूरा भारतीय उपमहाद्वीप सांप्रदायिक नफरत की आग में जल रहा था, महात्मा गांधी कश्मीर गए तो उन्हे...
Sanjay  Grover
0
ग़ज़ल ज़िंदगी की जुस्तजू में ज़िंदगी बन जाढूंढ मत अब रोशनी, ख़ुद रोशनी बन जारोशनी में रोशनी का क्या सबब, ऐ दोस्त!जब अंधेरी रात आए, चांदनी बन जागर तक़ल्लुफ़ झूठ हैं तो छोड़ दे इनकोमैंने ये थोड़ी कहा, बेहूदगी बन जाहर तरफ़ चौराहों पे भटका हुआ इंसान-उसको अपनी-सी ल...
विजय राजबली माथुर
0
स्पष्ट रूप से पढ़ने के लिए इमेज पर डबल क्लिक करें (आप उसके बाद भी एक बार और क्लिक द्वारा ज़ूम करके पढ़ सकते हैं
विजय राजबली माथुर
0
स्पष्ट रूप से पढ़ने के लिए इमेज पर डबल क्लिक करें (आप उसके बाद भी एक बार और क्लिक द्वारा ज़ूम करके पढ़ सकते हैं
विजय राजबली माथुर
0
स्पष्ट रूप से पढ़ने के लिए इमेज पर डबल क्लिक करें (आप उसके बाद भी एक बार और क्लिक द्वारा ज़ूम करके पढ़ सकते हैंसाभार : http://www.allayurvedic.org/2016/09/18-rogo-ka-kaal-hai-ye-3-aushdhiyon-ka-mishran.html?m=1
सुनील  सजल
0
व्यंग्य – दीवाली के शुभकामना सन्देश जब से पर्वों पर ग्रीटिंग्स भेजने का चलन शुरू हुआ है , तभी से ग्रीटिंग्स भेजने के तरीके भी दिनोदिन बदलते रहे हैं |जैसे कोई नेता पहले समाजसेवी बना , फिर अवसरवादी और फिर डकारवादी  या घोटालावादी बनने में जित गया |पिछले बरस दीवाल...
kavita verma
0
 छोटे से गाँव की छोटी सी सीमा सी ही तो सोच थी उसके माता पिता की जब उन्होंने आठवी के बाद उसे आगे पढ़ाने से मना  कर दिया था। किसी तरह खुद को बाल विवाह की त्रासदी से बचा कर वह शहर भाग गई थी। कितनी जद्दोजहद कितने संघर्ष के बाद वह अपनी पढ़ाई पूरी कर पाई। मा...
 पोस्ट लेवल : रोशनी
Ashok kumar
0
विटामिन ए से युक्त दवा आपको उम्र बढ़ने के साथ होने वाली दृष्टिहीनता से बचा सकती हैं। शोधकर्ताओं के मुताबिक यह दवा बुढापे में होने वाली दृष्टिहीनता के सबसे सामान्य कारणों को दूर करती है। शोधकर्ताओ द्वारा प्रस्तुत नई दवा "फेनरीटिनाइड" उम्र बढ़ने के साथ मांसपेशियों में...