ब्लॉगसेतु

रविशंकर श्रीवास्तव
4
..............................
 पोस्ट लेवल : लघुकथा
रविशंकर श्रीवास्तव
4
..............................
 पोस्ट लेवल : लघुकथा
रविशंकर श्रीवास्तव
4
..............................
 पोस्ट लेवल : लघुकथा
दिनेशराय द्विवेदी
27
धरती पर कर्क रेखा के आसपास एक देश था। उस देश के लोगों के पास एक बहुत पुरानी  किताब थी। जिसकी भाषा उनके लिए अनजान थी। वह उनके पूर्वजों की भाषा रही होगी। वे ऐसा ही मानते थे। उस किताब की लिपि तो वही थी जो वे इस्तेमाल करते थे। किताबो को वे पढ़ तो सकते थे, लेकिन सम...
 पोस्ट लेवल : देश short short story Country लघुकथा
sanjiv verma salil
6
लघुकथा समझदार *नगर में कोरोना पोसिटिव केस... खबर सुनते ही जिज्ञासा, चिंता और कौतूहल होना स्वाभाविक है। कुछ देर बाद समाचार मिला रोगी बेटा और उससे संक्रमित माँ चिकित्सकों से विवाद कर रहे हैं। फिर खबर आई की दोनों चिकित्सालय की व्यवस्थाओं से अंतुष्ट हैं। शुभचिंतकों ने...
 पोस्ट लेवल : लघुकथा
रविशंकर श्रीवास्तव
4
..............................
 पोस्ट लेवल : लघुकथा
रविशंकर श्रीवास्तव
4
..............................
 पोस्ट लेवल : लघुकथा
sanjiv verma salil
6
जबलपुर : लघुकथा की विकास यात्रा प्रस्तुति : आचार्य संजीव वर्मा 'सलिल' हिंदी वर्णक्रमानुसार अ. दिवंगत लघुकथाकार :गायत्री तिवारी, २७-१२-१९४७, ११२/११९ सराफा वार्ड, कोतवाली, जबलपुर गुरुनाम सिंह रीहल, १२-१२-१९५१, निधन १५-७-२०१४, बी.ए., व्यंग्य असली-नकली मांडवी प्रकाशन...
 पोस्ट लेवल : लघुकथा जबलपुर
रविशंकर श्रीवास्तव
4
..............................
 पोस्ट लेवल : लघुकथा
Meena Bhardwaj
214
छवि को देख गुंजन को यकीन नहीं हुआ कि यह   वही छवि है जिसकी चंचलता और शरारतों से उन पाँच सखियों की मंडली गुलजार हो जाया करता थी । अगर एक दिन वह न आती तो दूसरे दिन उसकी जम कर क्लास लगती कि कल वह कहाँ थी ? कॉलेज से बी.ए.करने के बाद वह अपने पिताजी के ट्रांसफर के स...
 पोस्ट लेवल : लघुकथा