ब्लॉगसेतु

सरिता  भाटिया
643
सुमित्रा आंटी बाहर आवाजें लगा लगा कर कन्याओं को इकठ्ठा कर रही थी ,क्योंकि वो काफी सक्षम है और कन्यापूजन बहुत विधि विधान से करती हैं और कन्याओं को खूब दान दक्षिणा देती हैं ....पड़ोसन आंटी बोली देखो कितना अच्छे से कन्यापूजन करती है सुमित्रा ,... इसे कहते हैं भक्ति ,पू...
 पोस्ट लेवल : कन्यापूजन लघुकथा
रविशंकर श्रीवास्तव
4
..............................
 पोस्ट लेवल : लघुकथा
sahitya shilpi
11
रचनाकार परिचय:-रचना व्यास मूलत: राजस्थान की निवासी हैं। आपने साहित्य और दर्शनशास्त्र में परास्नातक करने के साथ साथ कानून से स्नातक और व्यासायिक प्रबंधन में परास्नातक की उपाधि भी प्राप्त की है। आप अंतर्जाल पर सक्रिय हैं।मध्यमवर्गीय पिता ने जब होने वाले समधी से...
 पोस्ट लेवल : रचना व्यास लघुकथा
रविशंकर श्रीवास्तव
4
..............................
 पोस्ट लेवल : लघुकथा
sahitya shilpi
11
रामू चाय की दुकान पर काम करता था  पढने का बहुत शोक था  दिन में काम करता  और रात के समय पढता था , पिता ने उसे काम करने के लिए कहा था ,वह कहते थे की पढने से पैसे नहीं मिलते ,पर झुग्गी छोपडी में एक स्कूल था जो मुफ्त शिक्षा देता था ,तो रामू की लगन स...
रविशंकर श्रीवास्तव
4
..............................
 पोस्ट लेवल : लघुकथा
रविशंकर श्रीवास्तव
4
..............................
 पोस्ट लेवल : लघुकथा
रविशंकर श्रीवास्तव
4
..............................
 पोस्ट लेवल : लघुकथा
रविशंकर श्रीवास्तव
4
..............................
 पोस्ट लेवल : लघुकथा
290
बरसात से पूर्व घर में कुछ छुट-पुट मरम्मत का कार्य करवाना था। एक अदद राज मिस्त्री और दो मजदूरों की जरूरत थी। इन्हें लाने के लिए चौराहे पर गया। 500 रु0 प्रतिदिन मजदूरी के हिसाब से राज-मिस्त्री तो मिल गया।अब मजदूर खोजने लगे। 2-4 लोगों से कहा कि मजदूरी पर चलोगे।उन...