ब्लॉगसेतु

रविशंकर श्रीवास्तव
4
..............................
 पोस्ट लेवल : लघुकथा लघु कथा
रविशंकर श्रीवास्तव
4
..............................
 पोस्ट लेवल : लघुकथा लघु कथा
Hari Mohan Gupta
280
  लघु कथा ऐ.के.जोहरी को इनकमटेक्स आफिसमें प्रेक्टिस करते हुये अभी एक वर्ष ही हुआ था,7,8 फाइलें थी उसी में सन्तोष था | ऐक दिन सुनने को मिला कि इन्कमटेक्स कमिश्नर की तबियत बहुत खराब है, ऐक सप्ताह से अधिक हो गया है बुखार ही नहीं उतर रहा है, नगर के बड़े बड़े वकील एं...
 पोस्ट लेवल : लघु कथा
sanjiv verma salil
5
लघु कथाविजय दिवस*करगिल विजय की वर्षगांठ को विजय दिवस के रूप में मनाये जाने की खबर पाकर एक मित्र बोले-'क्या चोर या बदमाश को घर से निकाल बाहर करना विजय कहलाता है?'''पड़ोसियों को अपने घर से निकल बाहर करने के लिए देश-हितों की उपेक्षा, सीमाओं की अनदेखी, राजनैतिक मतभेदों...
sanjiv verma salil
5
 लघु कथा राष्ट्रीय एकता संजीव *'माँ! दो भारतीयों के तीन मत क्यों होते हैं?'''क्यों क्या हुआ?'''संसद और विधायिकाओं में जितने जन प्रतिनिधि होते हैं उनसे अधिक मत व्यक्त किये जाते हैं.'''बेटा! वे अलग-अलग दलों के होते हैं न.'''अच्छा, फिर दूरदर्शनी पर...
रविशंकर श्रीवास्तव
4
..............................
 पोस्ट लेवल : लघुकथा लघु कथा
रविशंकर श्रीवास्तव
4
..............................
 पोस्ट लेवल : लघुकथा लघु कथा
Tejas Poonia
357
अब तक जितना भी लिखा है कहानी, कविता, लेख, आलेख उन सभी को धीरे- धीरे ब्लॉग पर एक जगह एकत्र करने का प्रयास है। इसी संदर्भ में पढ़िए मेरी दूसरी प्रकाशित कहानी ' अधूरा प्रण' समलैंगिकता के विषय को आधार बनाकर लिखी गई यह मेरी पहली कहानी थी। दूसरी कहानी (इसी विषय पर केंद्रि...
sanjiv verma salil
5
लघुकथा :खिलौने*दिन भर कार्यालय में व्यस्त रहने के बाद घर पहुँचते ही पत्नी ने किराना न लाने का उलाहना दिया तो वह उलटे पैर बाज़ार भागा। किराना लेकर आया तो बिटिया रानी ने शिकायत की 'माँ पिकनिक नहीं जाने दे रही।' पिकनिक के नाम से ही भड़क रही श्रीमती जी को जैसे-तैसे समझाक...
sanjiv verma salil
5
लघु कथा: शब्द और अर्थ --संजीव वर्मा "सलिल "शब्द कोशकार ने अपना कार्य समाप्त किया...कमर सीधी कर लूँ , सोचते हुए लेटा कि काम की मेज पर कुछ खटपट सुनायी दी... मन मसोसते हुए उठा और देखा कि यथास्थान रखे शब्दों के समूह में से निकल कर कुछ शब्द बाहर आ गए थे। चश्मा लगाकर पढ़...