ब्लॉगसेतु

अनंत विजय
0
गीतकार मजरुह सुल्तानपुरी को उनकी एक कविता के लिए जेल भेज दिया गया था। तब देश में कांग्रेस का शासन था और नेहरू जी प्रधानमंत्री थे। संविधान और अभिव्यक्ति की स्वतंत्रता को लेकर प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने राज्यसभा में राष्ट्रपति के अभिभाषण पर धन्यवाद प्रस्ताव के दौर...
अनंत विजय
0
लता मंगेशकर लगातार को भक्ति के पद गाने में बहुत आनंद आता था। उन्होंने मीरा के कई पद गाए। उनको जयदेव का गीत गोविन्द भी बेहद प्रिय था। लता मंगेशकर बचपन से ही कृष्ण के प्रति आकर्षित रहती थीं। बाद में जब मीरा, सूरदास और जयदेव के पदों को पढ़ा तो उनकी कृष्ण में आस्था और...
sanjiv verma salil
0
सॉनेट लता*लता ताल की मुरझ सूखती।काल कलानिधि लूट ले गया।साथ सुरों का छूट ही गया।।रस धारा हो विकल कलपती।।लय हो विलय, मलय हो चुप है।गति-यति थमकर रुद्ध हुई है।सुमिर सुमिर सुधि शुद्ध हुई है।।अब गत आगत तव पग-नत है।।शारदसुता शारदापुर जा।शारद से आशीष रही पा।शारद माँ क...
kumarendra singh sengar
0
आज कुछ लिखने का मन नहीं हो रहा था किन्तु कल से ही दिमाग में, दिल में ऐसी उथल-पुथल मची हुई थी, जिसका निदान सिर्फ लिखने से ही हो सकता है. असल में अब डायरी लिखना बहुत लम्बे समय से बंद कर दिया है. बचपन में बाबा जी द्वारा ये आदत डाली गई थी, जो समय के साथ परिपक्व होती रह...
ज्योति  देहलीवाल
0
दोस्तो, सबसे पहले आप सबको 'आपकी सहेली ज्योति देहलीवाल' की ओर से नए साल की बहुत बहुत बधाई। ईश्वर से प्रार्थना है कि आप अपने नए साल के रेसोल्युशन पूरे करने में सफल रहे... नए साल पर ज्यादातर लोग कोई न कोई रेसोल्युशन (resolution) याने संकल्प जरुर लेते है। मैं यहां...
kumarendra singh sengar
0
कहते हैं कि सपने बड़े देखना चाहिए, बड़े सपने लगातार आगे बढ़ने को प्रेरित करते हैं. ऐसा कहने वालों का हो सकता है कि अपना अनुभव रहा हो इस तरह का. उनके द्वारा कोई बड़ा सपना देखा गया हो और वे उसी के लिए लगातार कार्य करते रहे हों, संघर्षशील रहे हों और अंततः अपने सपने को सच...
sanjiv verma salil
0
कृति चर्चा: जिजीविषा : पठनीय कहानी संग्रह चर्चाकार: आचार्य संजीव वर्मा 'सलिल' *[कृति विवरण: जिजीविषा, कहानी संग्रह, डॉ. सुमनलता श्रीवास्तव, द्वितीय संस्करण वर्ष २०१५, पृष्ठ ८०, १५०/-, आकार डिमाई, आवरण पेपरबैक जेकट्युक्त, बहुरंगी, प्रकाशक त्रिवेणी परि...
sanjiv verma salil
0
पुस्तक सलिला  युगपरिधि: भक्तिपक्षडाॅ. सुमनलता श्रीवास्तव*चन्द्रा जी की कृति न केाई ‘काॅफी टेबल बुक’ है और न ही रेलगाड़ी की या़त्रा में निपटा लिया जाने वाला उपन्यास है। कथानक की गुरुता, भाषा की प्रांजलता और वर्णनों की सर्वग्राह्यता के कारण यह उपन्यास श...
Saransh Sagar
0
जी हाँ , चलिए बताता हूँ कैसे , अभी रात के 2:35 हो रहे है , रोज जोश टॉक के वीडियो देखकर सोता हूँ और गले में खराश के कारण हॉट सूप सर्च कर रहा था तो सूप नही लिख पाया और सर्च hot keyword हो गया फिर नतीजे कुछ हैरान कर देने वाले थे !! कुछ स्क्रीनशॉट लगा रहा हूँ और बाकि आ...
रवीन्द्र  सिंह  यादव
0
 लता को बल्ली का सहारा न मिले तो वह क्या करती है?अध्यापक ने छात्रों से पूछाछात्रों को कुछ न सूझा तो एक छात्रा बोली- मेरी बात नहीं है ठिठोली कोई बल्ली का सहारा न दे तो भी लता पतन का मार्ग नहीं चुनतीकुछ दूर रेंगकर चढ़ जाती हैकि...