ब्लॉगसेतु

S.M. MAsoom
40
मेरे वतन को शिराज़-ए-हिंद जौनपुर कहते हैं |-- शोला जौनपुरीशोला जौनपुरी के नाम से हर जौनपुर निवासी वाकिफ है | इस नाम को आज किसी तार्रुफ कि आवश्यकता नहीं है. शहीद अली उर्फ शोला जौनपुरी का जन्म जौनपुर मैं सन १९५० में हुआ था. इनके पिता अली रज़ा साहब भी एक मशहूर शायर थे...
S.M. MAsoom
40
पवित्र सावन माह के पहले सोमवार को जिले के विभिन्न शिवालयों में शिवभक्तों ने मत्था टेककर विधिवत् पूजन-अर्चन किया।पहले भक्तों ने सुबह स्नान आदि कर अपने नजदीकी शिव मंदिरों पर पहुंचकर जलाभिषेक कर भांग, धतुरा, माला, फूल, रोरी, फल, दूध आदि चढ़ाया और मत्था टेककर मन्नत मां...
S.M. MAsoom
40
मुझे अपने वतन जौनपुर से हमेशा से मुहब्बत रही लेकिन इस वतन में रहने का अवसर कम ही मिल पाया करता है मुझे | वैसे वर्ष में ३-४ चक्कर अब वतन पहुँच जाता हूँ लेकिन जब भी वापस आता हूँ दिल में एक ख्वाहिश बाकी रह जाती है काश २-४ दिन और मिल जाते |मेरी इस जन्म भूमि न...
S.M. MAsoom
40
जौनपुर सिटी वेबसाईट के संचालक को यह बताते हुए अत्यंत ख़ुशी हो रही है कि फेस बुक पे  जौनपुर सिटी ज्ञान पहेली की शुरुआत  की  गयी  है  और इसमें भाग लेने वालों  की संख्या हर दिन बढती जा रही है और लोगों के उत्साह को देखते हुए जौनपुर सिटी सं...
S.M. MAsoom
40
आज का दौर जौनपुर की तरक्की का दौर है | जौनपुर की आवाज़ को विश्व तक पहुँचाने के लिए यहाँ के लोगों को विश्व से जोड़ने के लिए और यहाँ पर्यटन की आवश्यकता को बताने के लिए जौनपुर शहर की पहली वेबसाइट सन २०१० में हिंदी और अंग्रेजी में मैंने शुरू की |यह और बात है की इस वेबस...
S.M. MAsoom
40
हमारा वतन ही हमारी पहचान है यह बात मैं तब समझा जब मैं अपनी रोज़ी रोटी की तलाश में मुंबई पहुच गया | मुंबई शहर में बड़े आराम हैं शान है लेकिन पहचान नहीं है | इस पहचान शब्द को समाज के मिलने जुलने वालों से पहचान के रूप में न देखिये बल्कि आपकी पहचान वो होती है कि आपने अ...
S.M. MAsoom
40
कहते है आवश्यकता विकास की जननी होती हैं। यह खोज वही कर सकता जो इन समस्याओं से प्रतिदिन जुझता है। ऐसा ही करनामा कर दिखाया है जौनपुर के किसानों ने। जौनपुर के सैकड़ो किसानो के फसलो की सुरक्षा  कफन कर रही हैं। यह वही कफन हैं जिसमें लाशो को लपेट कर उनका अंतिम संस्क...
S.M. MAsoom
40
जौनपुर जिले के मछलीशहर कस्बे में एक युवक ने सिक्को का विशाल संग्रह कर रखा है। इसके खजाने में मुगल शासन काल से लेकर आज तक के सिक्के सजोकर रखा गया हैं। हलांकि इन सिक्को का सग्रह युवक के पिता ने शुरू की थी। पिता के इस अनूठे सपने को पूरा कर रहा उसका पुत्र।// < ![CDATA[...