ब्लॉगसेतु

विजय राजबली माथुर
0
फुटकर व्यापार का बंटाधार====================बीस लाख सुरक्षा स्टोर, कॅरोना और फुटकर व्यापार का बंटाधारकहते हैं ना कि संकट हो या खुशी हो पूंजीपति की चिंता सरकार भी करती है और समाज भी । जब कोरोना वायरस के कारण पूरा देश हताश और परेशान हैं । कई जगह एक एक रोटी के लिए लोग...
मुकेश कुमार
0
बात 2008 की थी, उन दिनों ऑरकुट का जमाना था, तभी एक नई बात पता चली थी कि "ब्लोगस्पॉट" गूगल द्वारा बनाया गया एक अलग इजाद है, जिसके माध्यम से आप अपनी बात रख सकते हैं और वो आपका अपना डिजिटल डायरी होगा | जैसे आज भी कोई नया एप देखते ही डाउनलोड कर लेता हूँ, तो कुछ वैसा ही...
Sanjay  Grover
0
कुछ रचनाएं आप शुरुआती दौर में, कभी दूसरों के प्रभाव या दबाव में तो कभी बस यूंही, लिख डालते हैं और भूल जाते हैं, मगर गानेवालों और सुननेवालों को वही पसंद आ जातीं हैं...... ग़ज़लआज मुझे ज़ार-ज़ार आंख-आंख रोना हैसदियों से गलियों में जमा लहू धोना है रिश्तों के मो...
Sanjay  Grover
0
ग़ज़लवो महज़ इक आदमी है बसऔर उसमें क्या कमी है बस उम्रे-दरिया के तजुर्बों परअब तो काई-सी जमी है बसआंसुओं का बह चुका दरियाआंख में थोड़ी नमी है बसहर बरस आता है इक तूफ़ांजोश सारा मौसमी है बसइन डरे लोगों के हिस्से मेंइक मरी-सी ज़िंदगी है बस-संजय ग्रोवर
Neeraj Jaat
0
इस यात्रा वृत्तान्त को आरम्भ से पढने के लिये यहां क्लिक करें।26 नवम्बर 2014हमारा दिमाग खराब था कि हमने लाखामण्डल से शाम सवा चार बजे चकराता जाने का फैसला किया। दूरी लगभग 70 किलोमीटर है, सडक सिंगल लेन ही है। पूरा रास्ता पहाडी। इतनी जानकारी हमें थी। जैसे हम कल से पहाड...
Neeraj Jaat
0
इस यात्रा वृत्तान्त को आरम्भ से पढने के लिये यहां क्लिक करें।आठ बजे सोकर उठे। आज मेरी छुट्टी का आखिरी दिन था। लाखामण्डल यहां से लगभग सवा सौ किलोमीटर दूर है और हम लाखामण्डल जाकर रात होने तक दिल्ली किसी भी हालत में नहीं पहुंच सकते थे। इसलिये लाखामण्डल जाना रद्द कर दि...
विजय राजबली माथुर
0
जिस पत्रिका के लिए मैंने सहयोग का आश्वासन दिया है उसी के पी टी एस महोदय के संपर्क उन राजनीतिक ब्लागर व राजनेता महोदय से घनिष्ठतम  हैं । अतः उन्होने मुझे प्रवचन देते हुये बताया है कि मुझसे पूर्व कई लोग उनके साथ काम करने आए जिनमें कोई 10 दिन में तो कोई मह...
ललित शर्मा
0
..............................
विजय राजबली माथुर
0
आगरा से जो लोग चले थे उनमे एक बालेश्वर जी कांग्रेस के थे,एक शुक्ला जी भी हमारी पार्टी के नहीं थे। हम कम्यूनिस्ट पार्टी के लोगों मे डा महेश चंद्र शर्मा,डा जितेंद्र रघुवंशी (के एम मुंशी विद्यापीठ,आगरा के विदेशी भाषा विभाग के अध्यक्ष और रूसी भाषा के शिक्षक),का नेमीचन्...
 पोस्ट लेवल : भुआ कान्फरेंस लाखेश