ब्लॉगसेतु

अनंत विजय
56
कोरोना वायरस के संकट के बीच जब पूर्ण लॉकडाउन चल रहा था और साहित्यिक सभाएं और गोष्ठियां बंद हो गई थीं, तो हिंदी साहित्य से जुड़े लेखकों ने फेसबुक पर एकल गोष्ठियां करनी शुरू कर दीं। कई साहित्यिक संस्थाओं और प्रकाशकों ने भी हिंदी की विभिन्न विधाओं के लेखकों का लाइव कर...
Kajal Kumar
15
अजय  कुमार झा
803
#विश्वपुस्तकमेला 2019मैं दिल्ली के लगभग हर पुस्तक मेले में ,एक पाठक जिसे किताबें खरीदने और पढ़ने का जुनून है,  की हैसियत से जरूर शिरकत करने का प्रयास करता हूँ और अधिकाँश बार सफल भी होता  हूँ | शुरआती दिनों में हिंदी साहित्य  की सिर्फ इतनी समझ थी कि तम...
दिनेशराय द्विवेदी
58
- प्रेमचन्द राष्ट्रीयता वर्तमान युग का कोढ़ है. उसी तरह जैसे मध्यकालीन युग का कोढ़ साम्प्रदायिकता थी. नतीजा - दोनों का एक है. साम्प्रदायिकता अपने घेरे के अन्दर पूर्ण शक्ति और सुख का राज्य स्थापित कर देना चाहती थी, मगर उस घेरे के बाहर जो संसार था, उसको नों...
रवीन्द्र  सिंह  यादव
243
कविवर विष्णु नागर जी के शब्दों में-'पत्नी से बड़ा कोई आलोचक नहीं होताउसके आगे नामवर सिंह तो क्यारामचंद्र शुक्ल भी पानी भरते हैंअब ये इनका सौभाग्य हैकि पत्नियों के ग्रंथ मौखिक होते हैं, कहीं छपते नहीं 'वहीं दूसरी ओर वे जीवन को कविता कहते हैं- 'जीवन भी कविता बन...
विजय राजबली माथुर
127
http://epaper.navbharattimes.com/details/7125-25752821-1.htmlभुवन   शोम फिल्म के माध्यम से निर्देशक ने हास्य नाटकीयता के द्वारा यह सिद्ध किया है कि, एक सिद्धांतनिष्ठ कडक प्रशासनिक अधिकारी को भी नारी सुलभ ममता द्वारा व्यावहारिक धरातल पर नर्म मानवीय व्यवहार...
Sanjay  Grover
400
ऐसा कई बार होता है कि बहस के दौरान कुछ लोग कहते हैं कि पहले फ़लां-फ़लां क़िताब पढ़के आओ फ़िर बात करना। ऐसा कहने की एक वजह यह होती है कि इन लोगों का अकसर चिंतन से वास्ता नहीं होता, पढ़ी-पढ़ाई, संुनी-सुनाई बातों को ही ये लोग बतौर तर्क ठेलते रहते हैं। जैसे ही कोई नया सवाल सा...
Kajal Kumar
15
अनंत विजय
56
हिंदी साहित्य जगत में एक बार फिर से लेखक संगठनों पर सवाल उठ रहे हैं। इस बार सवाल उठाया है हिंदी के वरिष्ठतम लेखकों में से एक अशोक वाजपेयी ने । हाल ही में उन्होंने वामपंथ को लेकर जो टिप्पणी की है उसके लपेटे में लेखक संगठन भी आ गए हैं। अशोक वाजपेयी के मुताबिक ‘वाम रु...
ANITA LAGURI (ANU)
424
कहानी संग्रह पंखुड़ियाँ (24 लेखक एवं 24 कहानियाँ )कहानी संग्रहhttps://www.instamojo.com/prachidigital5/pankhuriya-24-writers-and-24-stories/पंखुड़ियाँ (24 लेखक एवं 24 कहानियाँ ) की सूचना साझा करते हुए बहुत ख़ुशी का अनुभव हो रहा है कि इस संकलन में म...