ब्लॉगसेतु

विजय राजबली माथुर
98
https://khabar.ndtv.com/video/show/news/i-am-for-all-people-of-india-made-me-what-i-am-ravish-kumar-in-magsaysay-speech-526333Pawan Karan06-09-2019 नमस्कार, भारत चांद पर पहुंचने वाला है. गौरव के इस क्षण में मेरी नज़र चांद पर भी है और ज़मीन पर भी, जहां चांद से...
Bharat Tiwari
27
अवैध डाटा चोरी से लोकतंत्र की रक्षा हो   — शशि थरूर : 7 जून 2019, ब्यूरोयह राष्ट्रीय सुरक्षा का मसला है और मैं सरकार से यह निवेदन करता हूँ कि निजता के हमारे मौलिक अधिकार की रक्षा और हमारे लोकतंत्र को बचाने के लिए व्यापक कानून लाया जाए। — शशि थरूरकेरल...
शिवम् मिश्रा
429
EVM कभी हैक नहीं हो सकता, ये बात सबसे ज़्यादा बेहतर ख़ुद राजनीतिक पार्टियाँ और ... ये नेता भी जानते हैं। EVM से चुनाव की प्रक्रिया एकदम फ़ुल प्रूफ़ है, इसमें हैकिंग या इन्हें बदले जाने की सम्भावना पूरी तरह से नगण्य है। सबसे पहले चुनाव की प्रक्रिया शुरू होती है मतदा...
sanjiv verma salil
6
गीत *मात्र मेला मत कहोजनगण हुआ साकार है। *'लोक' का है 'तंत्र' अद्भुतपर्व, तिथि कब कौन सी है?कब-कहाँ, किस तरह जाना-नहाना है?बताता कोई नहीं परसूचना सब तक पहुँचती।बुलाता कोई नहीं परकामना मन में पुलकतीचलें, डुबकी लगा लेंयह मुक्ति का त्यौहार है।*'प्रजा' का है...
 पोस्ट लेवल : loktantra लोकतंत्र गीत
शिवम् मिश्रा
429
"राजनीति का सीधा सरल अर्थ था, प्रजा के हित में राज्य को चलाने की वह नीति, जो साम दाम दंड भेद के साथ वह करे, जो राज्य को, देश को सुदृढ बनाये । पर इतिहास हो या वर्तमान राजनीति हो गई मात्र एक कुर्सी, जिस पर बैठकर पंच परमेश्वर जैसी बात को पैरों के नीचे रौंदकर अट्टाहास...
रवीन्द्र  सिंह  यादव
70
ईवीएम का द्वंद्व दल दलदल  भोली जनता  लोकतंत्र चुनाव छल है? है दावा  अपना  धर्म जाति साम्प्रदायिक बाण-तूणीरछलनी  करेंगे मतदाता का मान। © रवीन्द्र&...
Kajal Kumar
18
Lokendra Singh
104
- लोकेन्द्र सिंहसामाजिक कार्यकर्ता एवं सेवानिवृत्त शिक्षक श्री सुरेश चित्रांशी के हाथों में पुस्तक "हम असहिष्णु लोग"आपातकाल भारतीय लोकतंत्र का काला अध्याय है। आपातकाल के दौरान नागरिक अधिकारों एवं स्वतंत्रता का हनन ही नहीं किया गया, अपितु वैचारिक प्रतिद्वंदी एवं जनस...
Lokendra Singh
104
- लोकेन्द्र सिंहपश्चिम बंगाल में खूनी राजनीति के शिकंजे में फंसे लोकतंत्र का दम घुंट रहा है और वह सिसकियां ले रहा है। पंचायत चुनावों में तृणमूल कांग्रेस के कार्यकर्ताओं ने जिस प्रकार हिंसा का नंगा नाच किया था, उससे ही साफ जाहिर हो गया था कि बंगाल की राजनीति के मुंह...
विजय राजबली माथुर
75
स्पष्ट रूप से पढ़ने के लिए इमेज पर डबल क्लिक करें (आप उसके बाद भी एक बार और क्लिक द्वारा ज़ूम करके पढ़ सकते हैं ) इतनी संवेदनहीन क्यों है हमारी पुलिस ?(सौजन्य अखबार 'सुबह सवेरे')Dhruv Gupt04-06-2018 अभी कुछ ही दशक पहले की बात है कि गांव-मुहल्लों में पुलिस...