ब्लॉगसेतु

सुशील बाकलीवाल
328
      इस समय देश में जिस अफरातफरी का माहौल बना हुआ है इसमें हर उस राज्य में जहाँ BJP का शासन है वहाँ जमकर हिंसा, आगजनी, तोडफोड और जो भी सामने आए उसे नष्ट करदो का जो माहौल बनाया हुआ है क्या यह सिर्फ नागरिकता संशोधन विधेयक के खिलाफ निकाला जा...
संतोष त्रिवेदी
116
इन दिनों ‘लोकतंत्र’ और ‘सत्य’ लगातार खबरों में बने हुए हैं।इससे इस बात की पुष्टि भी होती है कि ये दोनों अभी तक जीवित हैं।यह इस सबके बावजूद हुआ जबकि हर दूसरे दिन ‘लोकतंत्र की हत्या’ होने की मुनादी पिटती है।पर यह सशक्त लोकतंत्र का कमाल ही है कि वह अगले दिन सही-सलामत...
रवीन्द्र  सिंह  यादव
301
हसरत-ए-दीदार में सूख गया बेकल आँखों का पानी,कहने लगे हैं लोग यह तो है गुज़रे ज़माने की कहानी।मिला करते थे हम मेलों त्योहारोंउत्सवों में,मिलने की फ़ुर्सत किसे अब नस-नस में दौड़ती है  नशा-ए-इंटरनेट की रवानी। लिखते थे...
विजय राजबली माथुर
97
https://khabar.ndtv.com/video/show/news/i-am-for-all-people-of-india-made-me-what-i-am-ravish-kumar-in-magsaysay-speech-526333Pawan Karan06-09-2019 नमस्कार, भारत चांद पर पहुंचने वाला है. गौरव के इस क्षण में मेरी नज़र चांद पर भी है और ज़मीन पर भी, जहां चांद से...
Bharat Tiwari
25
अवैध डाटा चोरी से लोकतंत्र की रक्षा हो   — शशि थरूर : 7 जून 2019, ब्यूरोयह राष्ट्रीय सुरक्षा का मसला है और मैं सरकार से यह निवेदन करता हूँ कि निजता के हमारे मौलिक अधिकार की रक्षा और हमारे लोकतंत्र को बचाने के लिए व्यापक कानून लाया जाए। — शशि थरूरकेरल...
शिवम् मिश्रा
432
EVM कभी हैक नहीं हो सकता, ये बात सबसे ज़्यादा बेहतर ख़ुद राजनीतिक पार्टियाँ और ... ये नेता भी जानते हैं। EVM से चुनाव की प्रक्रिया एकदम फ़ुल प्रूफ़ है, इसमें हैकिंग या इन्हें बदले जाने की सम्भावना पूरी तरह से नगण्य है। सबसे पहले चुनाव की प्रक्रिया शुरू होती है मतदा...
sanjiv verma salil
5
गीत *मात्र मेला मत कहोजनगण हुआ साकार है। *'लोक' का है 'तंत्र' अद्भुतपर्व, तिथि कब कौन सी है?कब-कहाँ, किस तरह जाना-नहाना है?बताता कोई नहीं परसूचना सब तक पहुँचती।बुलाता कोई नहीं परकामना मन में पुलकतीचलें, डुबकी लगा लेंयह मुक्ति का त्यौहार है।*'प्रजा' का है...
 पोस्ट लेवल : loktantra लोकतंत्र गीत
शिवम् मिश्रा
432
"राजनीति का सीधा सरल अर्थ था, प्रजा के हित में राज्य को चलाने की वह नीति, जो साम दाम दंड भेद के साथ वह करे, जो राज्य को, देश को सुदृढ बनाये । पर इतिहास हो या वर्तमान राजनीति हो गई मात्र एक कुर्सी, जिस पर बैठकर पंच परमेश्वर जैसी बात को पैरों के नीचे रौंदकर अट्टाहास...
रवीन्द्र  सिंह  यादव
301
ईवीएम का द्वंद्व दल दलदल  भोली जनता  लोकतंत्र चुनाव छल है? है दावा  अपना  धर्म जाति साम्प्रदायिक बाण-तूणीरछलनी  करेंगे मतदाता का मान। © रवीन्द्र&...
Kajal Kumar
13