ब्लॉगसेतु

अनीता सैनी
100
आहत हुए अल्फ़ाज़ ज़माने की आब-ओ-हवा में,  लिपटते रहे  हाथों  में और  सीने में उतर गये, अल्फ़ाज़ में एक लफ़्ज़ था मुहब्बत, ज़ालिम ज़माना उसका साथ छोड़ गया,   मुक़द्दर से झगड़ता रहा ता-उम्र वह,  मक़ाम मानस अपना बदलता गया,&nbs...
रवीन्द्र  सिंह  यादव
301
हटाओ फूलजो बने प्लास्टिक से देखो बगिया,आ गया है सावनज़ख़्मों का मरहम। आये उमड़मेघदूत नभ मेंलाये सन्देश,शोख़ लफ़्ज़ सुननेथी सजनी बे-सब्र।पवन चलीखुल गयी खिड़कीफुहार आयी,भिगोया तन-मनबारिश में अगन।मेघ मल्हार साथ आयी बहार बोले पपीहा, है घटा घनघोरनाचे झ...
गौतम  राजरिशी
331
कैसे तो कैसे बीत जाता है ये कमबख़्त वक़्त और हम खर्च होते रहते हैं इसके इस बीतते जाने में...नामालूम से | पता भी नहीं चला और इस ब्लौग पर लिखते-लिखते छ साल हो गए | तो "पाल ले इक रोग नादां..." की छठी पर एक पुरानी ग़ज़ल :- उफ़ ये कैसी कशिश ! बेबसी ? हाँ वही !बेख़ुदी ? ब...