ब्लॉगसेतु

sanjiv verma salil
6
गीत भक्तों से सावधान*जो दुश्मन देश के, निश्चय ही हारेंगेदिख रहे विरोधी जो वे भी ना मारेंगेजो तटस्थ-गुरुजन हैं, वे ही तो तारेंगेमुट्ठी में कब किसके, बँधता है आसमानभक्तों से सावधान*देशभक्ति नारा है, आडंबर प्यारा हैसेना का शौर्य भी स्वार्थों पर वारा हैमनमानी व्या...
 पोस्ट लेवल : गीत भक्तों से सावधान
सुशील बाकलीवाल
328
कोरोना वायरस       कुछ समय पूर्व मैंने अपने ब्लॉग स्वास्थ्य सुख में दि. 29 जनवरी 2020 को कोरोना वायरस से सम्बन्धित पोस्ट “Corona Virus कोरोना वायरस का कहर दिन-ब-दिन बढ रहा है...”  तब डाली थी जब इसका प्रसार शुरु हुआ था व सिर्फ चीन के वु...
सुशील बाकलीवाल
411
सावधान रहें - सुरक्षित रहें.        जनसामान्य को ठगने व लूटने के जो नये-नये तरीके अपराधियों द्वारा ईजाद किये जा रहे हैं । उनमें जहाँ भी आपकी सावधानी हटी कि आपके साथ दुर्घटना घटी. और तब आपके जान व माल दोनों की सुरक्षा खतरे में पड सकती है । य...
Bharat Tiwari
20
अवध नारायण मुद्गल की बेमिसाल कहानी "और कुत्ता मान गया"मैं जब साहब के घर से फाइलें लेकर काफी रात गए अपने घर लौटने लगता हूँ, कुत्ता पंजे उठा-उठाकर हाथ मिलाता है, गुड नाइट कहता है, गले मिलता है। मैं प्रसन्नता से भर उठता हूँ। लगता है, जैसे साहब भी हाथ मिला रहे हों, गले...
विजय राजबली माथुर
96
अवध में गांवों के उजड़ने व बसने का सिलसिला करीब-करीब उसके इतिहास जितना ही लंबा है। इस लिहाज से वहां आज भी गांवों का मोटे तौर पर दो श्रेणियों में विभाजन किया जाता है। इनमें पहली श्रेणी चिरागी गांवों की है और दूसरी गैरचिरागी गांवों की। चिरागी श्रेणी में ऐसे गांव आते ह...
 पोस्ट लेवल : अवध महुआडाबर 10 जून 1857
संतोष त्रिवेदी
200
सोना नींद हराम केहेरुपिया ख़ूनु निकारे है।बड़की बातैं सब हवा हुईं,जीडीपी बादरु फारे है।गै लूटि तिजोरी बंकन कैखीसा पूरा अउ झारि दिहेनबैपारी पैकेज चाँटि रहे,लरिकउना पेटु उघारे है।करिया-धनु एकदम गा बिलायअब तौ बिकास चुचुहाय रहा।टिलियन डॉलर बसि आवति हैंनिम्मो दीदी समुझा...
रवीन्द्र  सिंह  यादव
292
कविवर विष्णु नागर जी के शब्दों में-'पत्नी से बड़ा कोई आलोचक नहीं होताउसके आगे नामवर सिंह तो क्यारामचंद्र शुक्ल भी पानी भरते हैंअब ये इनका सौभाग्य हैकि पत्नियों के ग्रंथ मौखिक होते हैं, कहीं छपते नहीं 'वहीं दूसरी ओर वे जीवन को कविता कहते हैं- 'जीवन भी कविता बन...
sanjiv verma salil
6
एक रचना भक्तों से सावधान*जो दुश्मन देश के, निश्चय ही हारेंगे दिख रहे विरोधी जो वे भी ना मारेंगे जो तटस्थ-गुरुजन हैं, वे ही तो तारेंगेमुट्ठी में कब किसके, बँधता है आसमान भक्तों से सावधान *देशभक्ति नारा है, आडंबर प्यारा है सेना का शौर्य भी स्वार्थों पर वारा है मनमानी...
विजय राजबली माथुर
73
ज़ाहिदनामा · March 11 , 2019 चुनाव और फिक्स व्यवस्थाएँ :-देश में लोक सभा चुनाव की घोषणा हो गयी , और कल चुनाव आयोग ने "फिक्स घोषणा" करके "फिक्स चरणों" के साथ चुनाव के "फिक्स दिन और तारीख" का ऐलान कर दिया।चुनाव अयोग की यह फिक्सिंग केन्द्र की मोदी...
विजय राजबली माथुर
96
~विजय राजबली माथुर ©