ब्लॉगसेतु

रवीन्द्र  सिंह  यादव
0
उस शहर के पश्चिमी छोर पर  एक पहाड़ को काटकर रेल पटरी निकाली गई नाम नैरो-गेज़ धुआँ छोड़ती छुकछुक करती रूकती-चलती छोटी रेल सस्ते में सफ़र कराती अविकसित इलाक़ों में जाती तीस साल उपरांत पुनः जाना हुआ न पटरी थी न पह...
sanjiv verma salil
0
लेख - सतत स्थाई विकास : मानव सभ्यता की प्राथमिक आवश्यकता आचार्य संजीव वर्मा 'सलिल' *स्थायी-निरंतर विकास : हमारी विरासतमानव सभ्यता का विकास सतत स्थाई विकास की कहानी है। निस्संदेह इस अंतराल में बहुत सा अस्थायी विकास भी हुआ है किन्तु अंतत: वह सब भी स्था...
 पोस्ट लेवल : लेख सतत स्थाई विकास
0
--पथ दिखलाने के लिए, आते हैं नवरात्र।उनका ही सत्कार हो, जो आदर के पात्र।।--जग को देता ऊर्जा, नभ में आकर नित्य।देवों में सबसे बड़ा, कहलाता आदित्य।।--सुबह-शाम परिवेश में, होता है लालित्य।आराधन कर इष्ट का, रचो ललित-साहित्य।।--जो होते हैं देवता, करते नहीं अनिष्ट।इसीलिए...
 पोस्ट लेवल : दोहे सबके साथ विकास
PRAVEEN GUPTA
0
VIKAS GUTGUTIA -  विकास गुटगुटिया मात्र 5 हज़ार रुपये, लेकिन आइडिया कमाल का था, सालाना 360 करोड़ की हो रही है कमाईगम हो या खुशी के पल हो फूल हर अंदाज को बयां करने का सबसे आसान और खुबसूरत जरिया होते हैं। ताजे फूलों में खुशी को दोगुना और गम को हल्का करने की त...
Asha News
0
झाबुआ। महिला एवं बाल विकास विभाग द्वारा संचालित वन स्टाॅप सेंटर झाबुआ में हिंसा से पीड़ित महिला एवं बालिका को परामर्श, कांउसलिंग के लिये मनोवैज्ञानिक परामर्श, सामाजिक परामर्श, विशेष शिक्षक, विधिक सहायता की आवश्यकता है। परामर्श तथा कांउसलिंग के लिये इच्छुक व्यक्...
sanjiv verma salil
0
लेख:सतत स्थाई विकास : मानव सभ्यता की प्राथमिक आवश्यकता आचार्य संजीव वर्मा 'सलिल' *स्थायी-निरंतर विकास : हमारी विरासतमानव सभ्यता का विकास सतत स्थाई विकास की कहानी है। निस्संदेह इस अंतराल में बहुत सा अस्थायी विकास भी हुआ है किन्तु अंतत: वह सब भी स्थाई विकास...
 पोस्ट लेवल : सतत स्थाई विकास लेख
विजय राजबली माथुर
0
  Manjul Bhardwaj07-02-2020 क्या युवा अपने ठगे जाने का प्रतिरोध करेगा : मंजुल भारद्वाजक्या युवा अपने ठगे जाने का प्रतिरोध करेगा ? अपने साथ हुए छलावे के खिलाफ उठ खड़ा होगा ? विकास और रोज़गार के नाम पर वाय- फाय के झुन्झने को फैंककर , अपने खिलाफ हुई साजिश...
 पोस्ट लेवल : वाय- फाय रोज़गार विकास
0
--तीन रंग का झण्डा न्यारा।हमको है प्राणों से प्यारा।।--त्याग और बलिदानों का वर।रंग केसरिया सबसे ऊपर।।--इसके बाद श्वेत रंग आता।हमें शान्ति का ढंग सुहाता।।--सबसे नीचे रंग हरा है।हरी-भरी यह वसुन्धरा है।।--बीचों-बीच चक्र है सुन्दर।हो विकास भारत के अन्दर।।--गाओ कौम...
सुशील बाकलीवाल
0
        वर्तमान समय में जैन लडके व लडकियों की शादी अपने सामाजिक जैन परिवार में ही हो यह आज के समय मे न सिर्फ लडके व लडकी के सुखी व सुरक्षित भावी जीवन के लिये बल्कि समाज विकास के लिये भी अत्यन्त आवश्यक हो चला है जिसका एक मुख्य कारण जैन समाज का आब...
रवीन्द्र  सिंह  यादव
0
यह सड़ाँध मारतीआब-ओ-हवा भले हीदम घोंटने परउतारू है,पर अब करें भीतो क्या करेंयही तोहमसफ़र हैदुधारू है।मिट्टीपानीहवावनस्पति सेसदियों पुरानीतासीर चाहते हो,रात के लकदकउजालों मेंटिमटिमातेजुगनुओं कोपास बुलाकरकभी पूछा-"क्या चाहते हो?" तल्ख़ियों सेभागते-भागतेआख़िरहास...