ब्लॉगसेतु

Basudeo Agarwal
168
(8, 8, 8, 8 पर यति अनिवार्य।प्रत्येक यति के अंत में हमेशा लघु गुरु (1 2) अथवा 3 लघु (1 1 1) आवश्यक।आंतरिक तुकान्तता के दो रूप प्रचलित हैं। प्रथम हर चरण की तीनों आंतरिक यति समतुकांत। दूसरा समस्त 16 की 16 यति समतुकांत। आंतरिक यतियाँ भी चरणान्त यति (1 2) या (1 1 1) के...
sanjiv verma salil
6
घनाक्षरी*चलो कुछ काम करो, न केवल नाम धरो,        उठो जग लक्ष्य वरो, नहीं बिन मौत मरो।रखो पग रुको नहीं, बढ़ो हँस चुको नहीं,        बिना लड़ झुको नहीं, तजो मत पीर हरो।।गिरो उठ आप बढ़ो, स्वप्न नव नित्य गढ़ो,     ...