ब्लॉगसेतु

Ashish Shrivastava
125
नोवेल कोरोनावायरस(Covid-19) का त्रिआयामी चित्रण 17 नवंबर 2019, पूरी दुनियाँ अपने रोज़मर्रा के कार्यो में व्यस्त थी लेकिन चीन के हुबेई प्रांत में एक 55 वर्षीय व्यक्ति एक वायरस के संक्रमण से पीड़ित था। उस समय तक किसी को आभास भी नही था कि यह वायरस पूरे विश्व के लिए कि...
संगीता पुरी
114
jyotish ek andhvishwas ?आसमान के विभिन्‍न भागों में विभिन्‍न ग्रहों की स्थिति के कारण पृथ्‍वी पर या पृथ्‍वी के जड चेतन पर पडनेवाले प्रभाव का अध्‍ययन फलित ज्‍योतिष कहलाता है। यह विज्ञान है या अंधविश्वास, इस प्रश्न का उत्तर दे पाना समाज के किसी भी वर्ग के लिए आसान नह...
Asha News
83
किसान नई नई तकनिक अपनाकर आत्म निर्भर बने - विधायक भूरिया   झाबुआ। कृषि विभाग द्वारा जिला स्तरीय दो दिवसीय कृषि विज्ञान मेला शुक्रवार को यंहा नवीन आजिविका कला दीर्घा भवन के सामने झाबुआ विधानसभा क्षेत्र के विधायक श्री कांतिलाल भूरिया के आतिथ्य में संपन...
Ashish Shrivastava
125
वैज्ञानिक अनुप्रयोग के महत्व के संदेश को व्यापक तौर पर प्रसारित करने के लिए हर वर्ष 28 फरवरी को राष्ट्रीय विज्ञान दिवस मनाया जाता है। इस आयोजन के द्वारा मानव कल्याण के लिए विज्ञान के क्षेत्र में घटित होने वाली प्रमुख गतिविधियों, प्रयासों और उपलब्धियों को प्रदर्शित...
mahendra verma
282
प्रकृति और उसकी शक्तियाँ शाश्वत हैं । मनुष्य ने सर्वप्रथम प्राकृतिक शक्तियों को ही विभिन्न देवताओं के रूप में प्रतिष्ठित किया । मनुष्य के अस्तित्व के लिए जो शक्तियाँ सहायक हैं, उन को देवता माना गया । भारत सहित विश्व की सभी प्राचीन सभ्यताओं- सुमेर, माया, इंका, हित्त...
उन्मुक्त हिन्दी
105
माइकेल क्राइटेन, मेरे प्रिय विज्ञान कहानी लेखकों में से एक हैं। उन्होंने एक रोचक उपन्यास 'द एन्ड्रौमिडा स्ट्रेन' नाम से लिखा है।इस चिट्ठी में, कॉरौना वाइरस की चर्चा के साथ, इस पुस्तक की समीक्षा है। वुहान शहर, मध्य चीन का सबसे महत्वपूर्ण शहर है। यह  राजनीतिक, आ...
Asha News
83
झाबुआ। कृषि विज्ञान केन्द्र झाबुआ को विगत पाॅच वर्षा मे आदिवासी बाहुल्य जिला झाबुआ में किसानो के लिए उनके आजीविका के स्थायित्व एवं आर्थिक विकास हेतु कडकनाथ मुर्गी पालन के साथ कृषि में विविधीकरण अंतर्वती फसल पद्वति, उन्नत व हाई टेक सब्जी उत्पादन तकनीक के प्रचार-प्रस...
mahendra verma
282
क्या आपको किसी ने कभी कहा है कि ‘ज़रा खुले दिमाग़ से सोचो’ या क्या यही बात आपने किसी से कभी कही है ?  इस बात से ऐसा लगता है कि सोचने वाला अब तक ‘बंद दिमाग़’ से सोच रहा था । क्या बंद दिमाग़ से भी सोचा जा सकता है ? सोचते होंगे कुछ लोग ! तभी तो कहने की ज़़रूरत पड़ी कि...
kumarendra singh sengar
30
आज कुछ लिखने का मन नहीं हो रहा था किन्तु कल से ही दिमाग में, दिल में ऐसी उथल-पुथल मची हुई थी, जिसका निदान सिर्फ लिखने से ही हो सकता है. असल में अब डायरी लिखना बहुत लम्बे समय से बंद कर दिया है. बचपन में बाबा जी द्वारा ये आदत डाली गई थी, जो समय के साथ परिपक्व होती रह...
Ashish Shrivastava
125
विलियम जी कायलिन जूनियर, सर पीटर जे रैटक्लिफ और ग्रेग एल सेमेंजा इन तीन वैज्ञानिकों को चिकित्सा का नोबेल, कोशिकाओं पर शोध के लिए सम्मान 2019 के लिए नोबल पुरस्कारों का ऐलान शुरू हो चुका है। मेडिसिन के लिए संयुक्त रूप से विलियम जी कायलिन जूनियर, सर पीटर जे रैटक्लिफ औ...