ब्लॉगसेतु

3
--खेत और खलिहान में, दूषित हुआ अनाज।लुप्तप्राय सी हो गयी, गौरैया है आज।।--शहरी जीवन में नहीं, रहा आज आनन्द।गौरैया को है नहीं, वातावरण पसन्द।। --मौसम मेरे देश के, हुए आज विकराल।गौरैया का गाँव में, पड़ने लगा अकाल।।--लगे डालने खेत में, खाद विषैली लोग।इसीलिए...
शिवम् मिश्रा
19
सभी हिन्दी ब्लॉगर्स को सादर नमस्कार। विश्व गौरैया दिवस (World Sparrow Day) प्रत्येक वर्ष '20 मार्च' को मनाया जाता है। यह दिवस पूरी दुनिया में गौरैया पक्षी के संरक्षण के प्रति लोगों को जागरूक करने के लिए मनाया जाता है। घरों को अपनी चीं-चीं से चहकाने वाली गौरैया...
HARSHVARDHAN SRIVASTAV
765
..............................
HARSHVARDHAN SRIVASTAV
765
..............................
शिवम् मिश्रा
19
सभी ब्लॉगर मित्रों को मेरा सादर नमस्कार।आज विश्व गौरैया दिवस है। विश्व गौरैया दिवस पहली बार वर्ष 2010 ई. में मनाया गया था। यह दिवस प्रत्येक वर्ष 20 मार्च को पूरी दुनिया में गौरैया पक्षी के संरक्षण के प्रति लोगों को जागरूक करने के लिए मनाया जाता है।जैसा कि आप सबको व...
शिवम् मिश्रा
19
सभी ब्लॉगर मित्रों को मेरा सादर नमस्कार।।आज विश्व गौरैया दिवस है। विश्व गौरैया दिवस यूएन द्वारा वर्ष 2010 से प्रतिवर्ष 20 मार्च को इसी उद्देश्य से मनाया जाता है क्योंकि इस दुर्लभ पक्षी का बचाव और संरक्षण किया जा सके तथा विलुप्ति के कगार पर पहुँच चुकी इस प्यारी और न...
YASHVARDHAN SRIVASTAV
686
पहले उड़ती - फिरती थी,ये हर डाली - डाली। कौन - थी ये चिड़िया प्यारी ?क्या नाम है इसका,जरा - पूछो भईया ?अरे ये चिड़िया है - गौरैया।।पहले दिखती थी ये,हर - घर आँगन में। परन्तु अब है ये,पक्षी संकट में।।इसे बचाने के लिए,करना पड़ेगा कोई उपाय। ताकि ये चिड़िया,इस...
HARSHVARDHAN SRIVASTAV
765
आज विश्व गौरैया दिवस है। विश्व गौरैया दिवस पहली बार वर्ष 2010 ई. में मनाया गया था। यह दिवस प्रत्येक वर्ष 20 मार्च को पूरी दुनिया में गौरैया पक्षी के संरक्षण के प्रति लोगों को जागरूक करने के लिए मनाया जाता है।जैसा कि आप सबको व...
HARSHVARDHAN SRIVASTAV
765
एक-दो दशक पहले हमारे घर-आंगन में फुदकने वाली गौरैया आज विलुप्ति के कगार पर है। इस नन्हें से परिंदे को बचाने के लिए हम पिछले तीन सालों से प्रत्येक 20 मार्च को "विश्व गौरैया दिवस" के रूप में मनाते आ रहे हैं, ताकि लोग इस नन्हीं सी चिड़िया के स...
Krishna Kumar Yadav
481
गौरैया भला किसे नहीं भाती. कहते हैं कि लोग जहाँ भी घर बनाते हैं देर सबेर गौरैया के जोड़े वहाँ रहने पहुँच ही जाते हैं। पर यही गौरैया अब खतरे में है. पिछले कई सालों से इसके विलुप्त होने की बात कही जा रही है. कंक्रीटों के शहर में गौरैया कहाँ घर बनाये, उस पर से मोबाइल...