ब्लॉगसेतु

विजय राजबली माथुर
73
स्पष्ट रूप से पढ़ने के लिए इमेज पर डबल क्लिक करें (आप उसके बाद भी एक बार और क्लिक द्वारा ज़ूम करके पढ़ सकते हैं ) सुशीला पूरी जी उदघाटन भाषण देते हुये इस रिपोरताज के लेखक वीर विनोद छाबड़ा साहब दूसरी पंक्ति में सबसे दायें ध्यान मग्न Vir Vinod Chhabra01...
विजय राजबली माथुर
73
स्पष्ट रूप से पढ़ने के लिए इमेज पर डबल क्लिक करें (आप उसके बाद भी एक बार और क्लिक द्वारा ज़ूम करके पढ़ सकते हैं ) Vir Vinod Chhabra इस्मत चुग़ताई - खुद बदनामियों झेल कर औरत को उसका हक़ दिलाया। -वीर विनोद छाबड़ा लखनऊ में तारीख़ १४ अगस्त २०१५ में इस्मत चुग़ताई...
विजय राजबली माथुर
126
** 10 अप्रैल 1986 को लखनऊ में प्रगतिशील लेखक संघ के स्वर्णजयंती समारोह के अवसर पर भीष्म साहनीजी और ज्ञानरंजन जी के साथ वीरेंद्र यादव जी .भीष्म साहनी - इतिहास को व्याख्यापित करता मानवीय चेहरा। :-वीर विनोद छाबड़ा  ०८ अगस्त २०१५. इसी दिन सौ वर्ष पूर्व प्रख्या...
विजय राजबली माथुर
126
 माईक पर कौशल किशोर व मंच पर प्रो .मेनेजर पाण्डेय Vir Vinod Chhabra6 hrs · आलोचना की संस्कृति खतरे में है - प्रो.मैनेजर पाण्डेय। -वीर विनोद छाबड़ा आज के भारत में लोकतंत्र और आलोचना की संस्कृति - यह विषय था, कल लखनऊ में जन संस्कृति मंच के तत्वाधान में आयोजित स...