ब्लॉगसेतु

विजय राजबली माथुर
165
स्पष्ट रूप से पढ़ने के लिए इमेज पर डबल क्लिक करें (आप उसके बाद भी एक बार और क्लिक द्वारा ज़ूम करके पढ़ सकते हैंआँखों की रोशनी  *************************************************************************************************** मिश्री **************************...
kumarendra singh sengar
28
व्यक्ति दिन-प्रतिदिन तरक्की करता हुआ आगे बढ़ता जा रहा है. इसके पीछे उसकी जिज्ञासा, कुछ नया करने की ललक, जीवन को सहज बना देने की मानसिकता रही है. यही कारण रहा कि उसने गुफाओं, वनों के आदिमनावीय जीवन में भी अपने मष्तिष्क को सक्रिय बनाये रखा तथा अनेकानेक खोजों, आविष्का...
Ashish Shrivastava
124
वे (बोस) वास्तव में आधुनिक भारत का प्रथम भौतिक विज्ञानी थे, देश का सब से पहला वैज्ञानिक। गेलिलियो – न्यूटन परम्परा के वे अपनी मातृभूमि के पहले सक्रिय सहभागी थे। उन्होने विश्वास न करने वाले ब्रिटिश वैज्ञानिकों को हैरान कर दिया। उन्होने दिखा दिया था कि पश्चिमी विज्ञा...
 पोस्ट लेवल : भौतिकी वैज्ञानिक
मुकेश कुमार
213
जड़त्व के नियम के अनुसार ही, वो रुकी थी, थमी थी,निहार रही थी, बस स्टैंड के चारो औरथा शायद इन्तजार बस का या किसी और का तो नहीं ?जो भी हो,  बस आयी,  रुकी, फिर चली गयीपर वो रुकी रही ... स्थिर !यानि उसका अवस्था परिवर्तन हुआ नहीं !!तभी, एकदम से सर्रर्र से रुकी...
Ashish Shrivastava
124
सुब्रह्मण्यन् चन्द्रशेखर सुब्रह्मण्यम चंद्रशेखर (जन्म- 19 अक्तूबर, 1910 – मृत्यु- 21 अगस्त, 1995) खगोल भौतिक शास्त्री थे और सन् 1983 में भौतिक शास्त्र के लिए नोबेल पुरस्कार विजेता भी थे। उनकी शिक्षा चेन्नई के प्रेसीडेंसी कॉलेज में हुई। वह नोबेल पुरस्कार विजेत...
Ashish Shrivastava
124
विलियम सी कैम्पबेल , सातोशी ओमूरा और यूयू तू (बांये से दायें) चिकित्सा के क्षेत्र में इस साल का नोबेल पुरस्कार पैरासाइट यानी परजीवी से होने वाले संक्रमण से लड़ने में महत्वपूर्ण योगदान देने वाले तीन वैज्ञानिकों को देने की घोषणा की गई है। इन तीन वैज्ञानिकों में चीन क...
Ashish Shrivastava
124
सतीश धवन सतीश धवन (जन्म- 25 सितंबर, 1920; मृत्यु- 3 जनवरी, 2002) भारत के प्रसिद्ध रॉकेट वैज्ञानिक थे। देश के अंतरिक्ष कार्यक्रम को नई ऊँचाईयों पर पहुँचाने में उनका बहुत ही महत्त्वपूर्ण योगदान था। एक महान वैज्ञानिक होने के साथ-साथ प्रोफ़ेसर सतीश धवन एक बेहतरीन इनसान...
प्रदीप  कुमार
744
लेखक : प्रदीप  आर्यभट प्राचीन भारत के सर्वाधिक प्रतिभासंपन्न गणितज्ञ-ज्योतिषी थे। वर्तमान में पाश्चात्य विद्वान भी यह स्वीकार करते हैं कि आर्यभट प्राचीन विश्व के एक महान वैज्ञानिक थे। यद्यपि हम आर्यभट का महत्व इसलिए देते  हैं क्योंकि सम्भवतः वे ईसा की पांचवी-छठी ...
Ashish Shrivastava
124
डॉक्टर विश्वेश्वरय्या मोक्षगुंडम विश्वेश्वरय्या (15 सितम्बर 1860 – 14 अप्रैल 1962) (कन्नड में: ಶ್ರೀ ಮೋಕ್ಷಗುಂಡಂ ವಿಶ್ವೇಶ್ವರಯ್ಯ ; अंग्रेजी में : Visvesvaraya, Visweswaraiah, Vishweshwariah;) भारत के महान अभियन्ता एवं राजनयिक थे। उन्हें सन 1955 में भारत के सर्वोच...
 पोस्ट लेवल : वैज्ञानिक
Manoj Kumar
289
..............................