ब्लॉगसेतु

sanjiv verma salil
6
नवगीत सुनो शहरियों!संजीव वर्मा 'सलिल'*सुनो शहरियों! पिघल ग्लेशियर सागर का जल उठा रहे हैं जल्दी भागो। माया नगरी नहीं टिकेगी विनाश लीला नहीं रुकेगी कोशिश पार्थ पराजित होगा श्वास गोपिका पुन: लुटेगी बुनो शहरियों !अब मत सपने&...
 पोस्ट लेवल : नवगीत सुनो शहरियों!
Kajal Kumar
18
 पोस्ट लेवल : रावण दशहरा dussehra ravan
Asha News
89
शास्त्र पूजन एवं शस्त्र पूजन का समन्वय है दशहरा पर्व- मुनि जिनेन्द्र विजय जी मसाझाबुआ।  प्रखर राष्ट्रवाद का सन्देश देते हुए नगर में राष्ट्रीय स्वयं सेवक संघ का अनुशासित पथ संचलन ने नगर में भ्रमण करके दशहरा पर्व पर जनजन में राष्ट्रवादी भावना का संचार किया । मंग...
4
--रावण का वध हो गया, गयी बुराई हार।विजयादशमी विजय का, पावन है त्यौहार।१। --जो दुष्टों के दलन का, करता काम तमाम।उसका ही होता सदा, जग में ऊँचा नाम।२। --मर्यादाओं का रखा, दुनिया में आधार।इसीलिए तो राम की, होती जय-जयकार।३। --त्यौहारों का कीजिए, नहीं...
ज्योति  देहलीवाल
51
दशहरा या विजयादशमी भगवान राम की विजय के रुप में मनाया जाता हैं। दशहरा एक प्रसिद्ध हिन्दू त्योहार है जो अच्छाई की बुराई पर जीत की ख़ुशी में मनाया जाता है। यहां पर दशहरा की 15 शुभकामनाएं दी गई हैं जो आप विजयादशमी पर अपने रिश्तेदारों और दोस्तों को भेज सकते हैं। 1...
Asha News
317
हिन्दू धर्मे में नवरात्री का त्यौहार बड़ी ही धूम धाम से मनाया जाता है नवरात्रि का त्यौहार साल में दो बार आता है पहला नवरात्रि त्यौहार चैत्र मास में और दूसरा नवरात्रि अश्विन मास में आता है, अश्विन मास में जो नवरात्री का त्यौहार आता है उसे हिन्दू धर्म के लोग बड़ी ही धू...
वंदना अवस्थी दुबे
362
पिछले एक साल में बहुत सारी पुस्तकें इकट्ठा हो गयीं, पढ़ने के लिये, और फिर लिखने के लिये. न बहुत पढ़ पाई, सो लिख भी नहीं पाई. अब एक-एक करके पढ़-लिख रही हूं. रश्मि का कहानी-संग्रह, ’बन्द दरवाज़ों का शहर’ प्रकाशित होते ही ऑर्डर कर दिया था. कुछ कहानियां पढ़ भी ली थीं, लेकिन...
निरंजन  वेलणकर
245
३: नार्कण्डा से रामपूर बुशहर इस लेखमाला को शुरू से पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक कीजिए| २९ जुलाई! इस यात्रा का दूसरा दिन| आज नार्कण्डा से रामपूर बुशहर की तरफ जाना है| कल नार्कण्डा में अच्छा विश्राम हुआ| रात बारीश भी हुई| २७०० मीटर से अधिक ऊँचाई पर रात में कोई दिक्कत...
sanjiv verma salil
6
एक नवगीत  शहर *मेरा शहर न अब मेरा है, गली न मेरीरही गली है।**अपनेपन की माटी गायब,चमकदार टाइल्स सजी है।श्वान-काक-गौ तकें, न रोटीमृत गौरैया प्यास लजी है।सेव-जलेबी-दोने कहीं न,कुल्हड़-चुस्की-चाय नदारद।खुद को अफसर कहता नायब,छुटभैया तन करे अदावत।...
 पोस्ट लेवल : नवगीत शहर navgeet shahar
विजय राजबली माथुर
75
स्पष्ट रूप से पढ़ने के लिए इमेज पर डबल क्लिक करें (आप उसके बाद भी एक बार और क्लिक द्वारा ज़ूम करके पढ़ सकते हैं ) नवजीवन डेस्कPublished: Dec 06th 2018, 11.02 AMलखनऊ में सीएम योगी आदित्यनाथ ने बुलंदशहर भीड़ हिंसा में शहीद इंस्पेक्टर सुबोध कुमार सिंह के परिवार से मुल...