ब्लॉगसेतु

सुनीता शानू
0
 रात युक्रेन के लिए बेहद डरावनी बीतेगी यही समाचार सुनते-सुनते सो गई थी, मुझसे वहाँ के नागरिकों के आँसू देखे नहीं जा रहे थे, न सुबह समाचार देखने का ही मन हुआ।लेकिन कब तक हम इन्हीं सब दुखदाई पलों से भागते रहेंगे?आपको याद न हो तो बता देती हूँ आज ही के दिन एक भीषण...
kumarendra singh sengar
0
संसद पर वर्ष 2001 में हुए आतंकी हमले को विफल करने के दौरान हुए संघर्ष में शहीद हुए सुरक्षा-कर्मियों को नमन. .वंदेमातरम्
 पोस्ट लेवल : शहीद संसद आतंकवादी
शिवम् मिश्रा
0
मेजर संदीप उन्नीकृष्णन (15 मार्च 1977 - 28 नवम्बर 2008) अशोक चक्र (मरणोपरांत) संदीप उन्नीकृष्णन (15 मार्च 1977 -28 नवम्बर 2008) भारतीय सेना में एक मेजर थे, जिन्होंने राष्ट्रीय सुरक्षा गार्ड्स (एनएसजी) के कुलीन विशेष कार्य समूह में काम किया. वे नवम्बर 200...
Roli Dixit
0
'चांद आज साठ बरस का हो गया' इतना कहकर पापा ने ईंट की दीवार पर पीठ टिकाते हुए मेरी आंखों में कुछ पढ़ने की कोशिश की...'लेकिन मेरा चांद तो अभी एक साल का भी नहीं हुआ है' कहते हुए मैं पापा से लिपट गई.मेरी आंखों से रिस रहे आंसू बीते समय को जी रहे हैं. रोज शाम हम घर की छत...
kumarendra singh sengar
0
गणतंत्र दिवस हो या फिर स्वतंत्रता दिवस, इन राष्ट्रीय पर्वों पर दिल-दिमाग पर एक अजब तरह की खुमारी चढ़ी रहती है. ऐसे माहौल में, जबकि देह का रोम-रोम देशभक्ति के एहसास में डूबा रहता है किसी भी देशभक्त के प्रति अनादर जैसी स्थिति देख मन विचलित हो जाता है. कुछ ऐसा ही हमारे...
sanjay krishna
0
सेरेंगसिया घाटी शहीदों की याद दिलाती है। यह अतीत का एक पन्ना है, जिस पर बहुत कम चर्चा होती है। यह उस आंदोलन की याद दिलाता है, जिसमें अंग्रेजों को हो आदिवासियों ने अपनी बहादुरी से पस्त कर दिया था।  घटना सन् 1820-21 की है। अंग्रेजों...
 पोस्ट लेवल : सेरेंगसिया के शहीद
अनीता सैनी
0
दर्द ३९००शहीद जाँबाज़ जवानों कासीने में उभर आयासंजीदा साये सिहर उठे होंगे उनके भी मौजूदा हालात देख देश केशिथिल शब्दों में हुई होगी गहमागहमी उनके भीआपस में वे भी बोल उठे होंगेक्यों किया तकल्लुफ़ चीख़ते सन्नाटे नेक्यों सुनाया संदेश सर्द हवाओं नेयही एहसासात&nbs...
sanjay krishna
0
सिलागाई अमर शहीद बुधु भगत का गांव हैं। गांव जाने के दो रास्ते हैं। एक चान्हो होते हुए। चान्हो से गांव की दूरी दस किमी है, लेकिन रास्ता बहुत खराब है। यह गांव चान्हो प्रखंड में ही पड़ता है। एक दूसरा रास्ता बेड़ो से तुको और यहां से एक रास्ता सिलागाई की ओर जाता है। यह...
 पोस्ट लेवल : अमर शहीद बुधु भगत
अनंत विजय
0
हिंदी फिल्म के सौ वर्षों से अधिक लंबे इतिहास पर अगर हम नजर डालते हैं तो पाते हैं कि किसी भी हिन्दुस्तानी ने उनपर कोई मुकम्मल फिल्म नहीं बनाई। उनके व्यक्तित्व के हिस्सों, उनके जीवन से जुड़ी घटनाओं और उनके बेटों के साथ संबंधों पर तो फिल्म बनी लेकिन गांधी को केंद्र मे...
kumarendra singh sengar
0
नीरजा भनोत, ये नाम संभवतः अब लोगों के लिए अनजाना नहीं होगा. ऐसा इसलिए क्योंकि उनके साहसिक कार्य और बलिदान को याद रखने के लिये राम माधवानी के निर्देशन में नीरजा फ़िल्म का निर्माण किया जा चुका है. इस फ़िल्म में नीरजा का किरदार अभिनेत्री सोनम कपूर ने निभाया. इस फिल्म...