ब्लॉगसेतु

शिवम् मिश्रा
32
भारत माँ के इस सच्चे सपूत सुखदेव को उनके १०५ वे जन्मदिन के अवसर पर हम सब की ओर से शत शत नमन !!वन्दे मातरम !! इंकलाब ज़िंदाबाद !!
 पोस्ट लेवल : शहीद सुखदेव १५/०५
Sanjay Chourasia
179
मैं शिवपुरी शहर से हूँ ! और मैं अपने आपको धन्य समझता हूँ कि, वीर स्वतंत्रता सेनानी शहीद तात्या टोपे को मेरे शहर में फांसी दी गयी ! उनके वलिदान दिवस पर शिवपुरी में एक मेला लगता है जिसमे इस वीर योद्धा को याद किया जाता है ! तात्या के जन्म से मृत्यू तक का विवरण एक...
पत्रकार रमेश कुमार जैन उर्फ निर्भीक
552
मेरी बहनों/मांओं ! क्या नेताजी सुभाष चन्द्र बोस, शहीद भगत सिंह आदि किसी के भाई और बेटे नहीं थें ? क्या भारत देश में देश पर कुर्बान होने वाले लड़के/लड़कियाँ मांओं ने पैदा करने बंद कर दिए हैं ? जो भविष्य में नेताजी सुभाष चन्द्र बोस, शहीद भगत सिंह, राजगुरु, सुखदेव...
महेन्द्र श्रीवास्तव
529
मुझे लगता है कि कम से कम इस विषय पर तो राजनीति नहीं ही होनी चाहिए। संसद पर हमले के शहीद हुए लोगों को  यही सच्ची श्रद्धांजलि होगी जब हमले के मास्टर माइंड अफजल गुरु को फांसी पर लटकाया जाएगा। इस घटना को याद करते हुए आज 10 साल बीत चुके हैं लेकिन सवाल एक आज भी रह...
संजय भास्कर
85
  आप सभी ब्लॉगर साथियों को मेरा ..........सादर नमस्कार .........कई दिनों से कविताये लिखने के बाद सोचा आलेख लिखा जाये  लगभग कई  दिन के अवकाश के बाद  पुन: उपस्थित हूँ । आज सभी शहीद  की कुर्बानियों को भूलते जा रहे है लेकिन जब कभी भी किसी शहीद...
 पोस्ट लेवल : शहीद स्मारक abhinandan Kavita
अजय  कुमार झा
172
कल देर रात को अनुज समान मित्र शिवम मिश्रा जी का फ़ोन आया । उन्होंने याद दिलाया कि आज यानि तेरह अप्रैल वही दिन है जब जालियांवाला बाग नरसंहार हुआ था और चूंकि मैं हाल ही में वहां सपरिवार गया हुआ था इसलिए अपने अनुभव को साझा करने के लिए आज के दिन से उपयुक्त और क्या हो स...
अजय  कुमार झा
95
पिछले दिनों कुछ घटनाएं ऐसी थीं तो बहुत आसपास भी नहीं घटते हुए मस्तिष्क को आंदोलित किए रहीं । ताज्जुब की बात ये रही कि विश्व को अचंभे और अचक में जहां दुर्घटनाओं ने डाला वहीं भारत खुद की उत्पन्न  घटनाओं से ही उथल पुथल करता रहा । राजनीतिक घटनाक्रम को बिल्कुल सिर...
Deen Dayal Singh
236
मेहनत की लूट सबसे खतरनाक नहीं होतीपुलिस की मार सबसे खतरनाक नहीं होतीगद्दारी लोभ की मुठ्ठी सबसे खतरनाक नहीं होती बैठे सोये पकडे जाना - बुरा तो हैडर से चुप रह जाना - बुरा तो हैसबसे खतरनाक नहीं होता .कपट के शोर मेंसही होने पर दब जाना, बुरा तो हैकिसी जुगनू की लौ...
सुमन कपूर
315
15 अगस्त 1947 हमारा प्रथम स्वतंत्रता दिवस...............वो दिवस जिसे सभी आँखें देख पाई न देख सके हमारे शहीद जवान जो अपनी मातृभूमि के लिये हंसते हंसते कुर्बान हो गये । आज हमारे 63वें स्वतंत्रता दिवस पर ‘श्री माखनलाल चतुर्वेदी जी’ की यह कविता उन सभी जवानों और उनके पर...
 पोस्ट लेवल : नमन शहीदों को...............
girish billore
92
..............................
 पोस्ट लेवल : शहीद हेमंत करकरे 26/11