ब्लॉगसेतु

kumarendra singh sengar
0
गणतंत्र दिवस की हार्दिक शुभकामनाएँ स्नेह, विश्वास का यह सूत्र सदैव बना रहे।. वंदेमातरम्
kumarendra singh sengar
0
किसी-किसी बात को लेकर, किसी-किसी बिन्दु को लेकर लोगों में एक तरह की भेड़चाल देखने को मिलती है। इधर नया साल आने को होता है वैसे ही ये दिखाई देने लगती है। सोशल मीडिया के बहुत से मंचों पर दिन भर इसी तरह की जुगाली होने लगती है। हिन्दी, हिन्दू, हिन्दुस्तान को मानने, स्व...
kumarendra singh sengar
0
दीपमालिके पर्व का शुभारम्भ होते ही मन हर्षित, प्रफुल्लित हो उठता है। मूलतः आज धनतेरस तिथि से इसका आयोजन आरम्भ हो जाता है। आप सभी को धनतेरस की हार्दिक शुभकामनाएँ धनतेरस शुभ हो मंगलकामना कि आप सभी के जीवन में खुशियों की रोशनी चमके।
ज्योति  देहलीवाल
0
महाराजा अग्रसेन भगवान श्रीकृष्ण के समकालीन थे। उनका जन्म द्वापर युग के अंत व कलयुग के प्रारंभ में अश्विन शुक्ल प्रतिपदा को हुआ था। इसलिए नवरात्रि के प्रथम दिवस को अग्रसेन महाराज की जयंती के रूप में मनाया जाता हैं। अग्रसेन जयंती पर अपने दोस्तों, रिश्तेदारों एवं सभी...
निरंजन  वेलणकर
0
पहले जन्म दिन का पत्र: एक प्रेमपत्र दूसरे जन्म दिन का पत्र: बच्चे मन के सच्चे आज तुम बहुत बड़ी यानी तीन साल की हो गई हो! पीछले जन्म दिन को तुमने जो पर पहने थे, वैसे पर अब तुम्हारे फूट गए हैं! तुम्हारा जन्मदिन तुमने बहोत एंजॉय किया! दिन भर 'हॅपी बर्थडे टू यू' कह...
sanjiv verma salil
0
प्रिय पुष्पा जिज्जी!सादर प्रणाम सहित भावांजलि *शत-शत वंदन शत अभिनंदन अर्पित अक्षत रोली चंदन *ओंकारित होकर मुस्काओ जीवन की जय-जय गुंजाओ महके स्नेह-सुरभि दस दिश में ममतामय नर्मदा बहाओ पुष्पाओ तो हो जग मधुवनशत-शत वंदन शत अभिनंदन अर्पित अक्षत रोली चंदन *अंशुमान अँगना...
sanjiv verma salil
0
शुभकामना खरे-खरे प्रतिमान रच जियें आप सौ वर्ष.जीवन बगिया में खिलें पुष्प सफलता-हर्ष ..चित्र गुप्त जिसका सकें उसे आप पहचान.काया-स्थित है वही,कर्म देव भगवान.ॐ प्रकाश बिखेरता रहे अहर्निश संग आशुतोष आनंद दे अंशुमान भर रंग आशा की सुषमा सदा सफल साधना हो सदा मन सचेत सं...
ज्योति  देहलीवाल
0
श्रीकृष्ण का जन्म भाद्रपद मास की कृष्ण पक्ष की अष्टमी को आधी रात में मथुरा में हुआ था। इसलिए श्रीकृष्ण के जन्मदिन के रूप में जन्माष्टमी मनाई जाती है। इसे भारत में ही नहीं, बल्कि विदेश में रहने वाले भारतीय भी बहुत धूम-धाम से मनाते हैं। इस खास मौके पर लोग एक-दूसरे को...
kumarendra singh sengar
0
आज हमारे जीजा जी-जिज्जी की वैवाहिक वर्षगाँठ है. 46 वर्ष हो गए इस शुभ अवसर को और देखिये हम भी इस संख्या से कोई आठ महीने आगे ही हैं. उम्र का इतना बड़ा अंतर होने के कारण जीजा जी से मजाकिया रिश्ता होने के बाद भी कभी मजाक जैसी स्थिति में नहीं आ सके. उनकी तरफ से जरूर अनेक...
मुकेश कुमार
0
Add captionएक हम सबकी यानी हमारे एजग्रुप या उससे कुछ पहले की जस्ट कॉलेज वाली जिंदगी हुआ करती थी, उस समय ग्यारहवीं यानी आईएससी भी कॉलेज था। तब पापा मने डांट या पिटाई ही कहलाया करता था। पापा तो रावण होते थे ☺️ (उस समय के सोच के हिसाब से)! बैठे बैठे चिल्लाते थे, या फ...