ब्लॉगसेतु

sanjiv verma salil
0
शेर / द्विपदीमिलाकर हाथ खासों ने, किया है आम को बाहरनहीं लेना न देना ख़ास से, हम आम इन्सां हैंदोहा दुनिया *राजनीति है बेरहम, सगा न कोई गैर कुर्सी जिसके हाथ में, मात्र उसी की खैर *कुर्सी पर काबिज़ हुए, चेन्नम्मा के खास चारों खाने चित हुए, अम्मा जी के दास *दोहा देहरादू...
jaikrishnarai tushar
0
 चित्र -साभार गूगल एक ताज़ा -ग़ज़ल-नया शेर सुनाता हूँ कहाँअपने बच्चों से कभी सच को बताता हूँ कहाँइसलिए ख़्वाब में परियाँ हैं मैं आता हूँ कहाँहर किसी दौर में,तू मीर के दीवान में हैतुझको पढ़ता हूँ नया शेर सुनाता हूँ कहाँमेरी आँखें हैं मेरी नींद भी सपना भी मेरामै...
sanjiv verma salil
0
कविता:शेर और आदमी *शेर के बाड़े में कूदा आदमी शेर था खुश कोई तो है जो न घूरे दूर से मुझसे मिलेगा भाई बनकर. निकट जा देखा बँधी घिघ्घी थी उसकी हाथ जोड़े गिड़गिड़ाता: 'छोड़ दो' दया आयी फेरकर मुख चल पड़ा नरसिंह नहीं नरमेमने जा छोड़ता हूँ तब ही लगा पत्थर अचानक हुआ हमला क्य...
 पोस्ट लेवल : कविता आदमी शेर
Manisha Sharma
0
ट्रैवलिंग यात्रा सफर पर्यटन सैर शेर-शायरी मुहावरे गाने और वाक्ययूं आजकल पर्यटन ट्रैवलिंग का शौक काफी बढ़ गया है। हर किसी को दुनिया घूमने का शौक़ नहीं होता, पर जिन्हें होता है वो ही जानते हैं कि जगह जगह घूमना क्या होता है। घमुक्कड़ ही पर्यटन के लिये यात्रा की असली क़ी...
शिवम् मिश्रा
0
ब्रिगेडियर मोहम्मद उस्मान (जन्म:15 जुलाई 1912 आज़मगढ़ – मृत्यु: 3 जुलाई 1948) भारतीय सेना के एक उच्च अधिकारी थे जो भारत और पाकिस्तान के प्रथम युद्ध (1947-48) में शहीद हो गये। उस्मान 'नौशेरा के शेर के' रूप में ज्यादा जाने जाते हैं। वह भारतीय सेना के सर्वाधिक...
sanjiv verma salil
0
द्विपदी:करें शिकवे-शिकायत आप-हम दिन-रात अपनों से कभी गैरों से कोई बात मन की कह नहीं सकता.http://divyanarmada.blogspot.in/
 पोस्ट लेवल : dwipadi द्विपदी शेर sher
शिवम् मिश्रा
0
अमर शहीद कैप्टन विक्रम 'शेरशाह' बत्राआज ७ जुलाई है ... आज ही के दिन सन १९९९ की कारगिल की जंग मे कैप्टन विक्रम बत्रा जी की शहादत हुई थी ! पालमपुर निवासी जी.एल. बत्रा और कमलकांता बत्रा के घर 9 सितंबर, 1974 को दो बेटियों के बाद दो जुड़वां बच्चों का जन्म हुआ। माता...
Ashok Kumar
0
आज शानी का जन्मदिन है. शानी यानी सतत असुविधा का लेखक. मेरी पीढ़ी के लोगों का उनसे परिचय शायद दूरदर्शन पर आये धारावाहिक "काला जल" से हुआ हो, मेरा तो उसी से हुआ था. उपन्यास बाद में पढ़ा. कभी परमानंद श्रीवास्तव ने कहा था कि मुस्लिम समाज को जानना हो तो तीन उपन्यास पढ़ डाल...
शिवम् मिश्रा
0
'मैसूर के शेर' के नाम से मशहूर और कई बार अंग्रेजों को धूल चटा देने वाले टीपू सुल्तान राकेट के अविष्कारक तथा कुशल योजनाकार भी थे। उन्होंने अपने शासनकाल में कई सड़कों का निर्माण कराया और सिंचाई व्यवस्था के भी पुख्ता इंतजाम किए। टीपू न...
विजय राजबली माथुर
0