ब्लॉगसेतु

संजीव तिवारी
68
लिखित इतिहास को मिटाने उसे दबाने-छुपाने के कई उदाहरण आप लोगों ने देखा होगा, किन्‍तु यहां छत्‍तीसगढ़ के जिला मुख्‍यालय दुर्ग में एक बड़े भवन को, छुपा लिया गया था। अवैध कब्जाधारियों की स्वार्थपरक लोलुपता ने इसे ढांप लिया था, लोगों का कहना है कि कई बार कब्जा हटाया गया,...
संजीव तिवारी
68
घनश्याम सिंह गुप्त के अवदानों का अध्ययन करते हुए हमने तत्कालीन परिस्थितियों में वर्चस्ववादी राजनेताओं की राजनैतिक चालों से भी परिचित होते रहे। जिसमें पंडित रविशंकर शुक्ल और पंडित द्वारिका प्रसाद मिश्र जैसे सिद्धस्त राजनीतिज्ञों के बीच सामंजस्य बिठाते हुए वे अपनी वि...
संजीव तिवारी
68
(शेख हुसैन के गाए गीतों के विशेष संदर्भ में) श्रम परिहार, आनंद उत्सवों और संस्कार के अवसर में लोक की अभिव्यक्ति गीतों के माध्यम से प्रस्तुत होती है। लोक में गीतों की परम्परा आदिम युग से विद्यमान है और इसकी यही पारंपरिकता इसे लोकगीत के रूप में स्थापित करती है। लोकग...
संजीव तिवारी
68
अंग्रजों के जमाने में सीपी एण्‍ड बरार  में सन् 1924 को हुए चुनाव में स्‍वराज्‍य पार्टी नें बहुमत प्राप्‍त किया था। दल के नेता के रूप में पं.रविशंकर शुक्‍ल का नाम सामने आया था किन्‍तु उस समय उनको इल का नेता नहीं चुना गया और डॉ.मुंजे को दल का नेता चुन लिया गया थ...
संजीव तिवारी
68
छत्तीसगढ़ी मुहावरे, कहावतें एवं लोकोक्तियों पर कुछ महत्वपूर्ण किताबें प्रकाशित हैं। इन किताबों में मुहावरे,कहावतें और लोकोक्तियां संग्रहित हैं। मुहावरे, कहावतें और लोकोक्तियां समानार्थी से प्रतीत होते हैं, बहुधा इसे एक मान लिया जाता है। विद्वान इनके...
संजीव तिवारी
68
छत्तीसगढ़ की नग्नता शुरू से प्रदर्शन की वस्तु रही है। बस्तर में बस्तर बालाओं की नग्नता देखने के लिए अंग्रेज पुरुष उतावले होते थे वही अंग्रेज महिलाएं छत्तीसगढ़ के पुरुष की नग्नता देखने के लिए भी उतावली रही है। स्वतंत्रता के पूर्व रायपुर जेल में ऐसा वाकया घटित हुआ है...
संजीव तिवारी
68
जय, बमलेश्‍वरी मैया, नैना, प्रेम सुमन, राजा छत्‍तीसगढि़या, दबंग दरोगा, बंधना प्रीत के, माटी के दिया, भाई-बहिनी एक अटूट बंधन, भक्‍त मां करमा सहित अनेकों छत्‍तीसगढ़ी, भोजपुरी एवं हिन्‍दी फिल्‍मों में अभिनय करने वाले विनायक अग्रवाल को कौन नहीं जानता। इन्‍होंनें नाट्य,...
संजीव तिवारी
68
आइए आज देश के प्रथम राष्ट्रपति डॉ. राजेंद्र प्रसाद जी की जयंती पर आज उनसे संबंधित एक संस्मरण हम आपको बताते हैं। यह संस्मरण हमे हमारे दुर्ग अधिवक्ता संघ के वरिष्ठ अधिवक्त श्री गौरी शंकर सिंह के द्वारा बताया गया।  (adsbygoogle = window.adsbygoogle || []).pu...
संजीव तिवारी
68
छत्तीसगढ़ी राजभाषा दिवस के दिन छत्तीसगढ़ी लोक...
संजीव तिवारी
68
बात सन 1983 के किसी जड़काले की है, मध्य प्रदेश माध्&#235...