ब्लॉगसेतु

S.M. MAsoom
31
होली अपने आप में अनेक रंग लिये हुए है.और जिसकी अलामत बुराई पर अच्छाई की जीत है.गांवों में बसा हमारा भारत ग्राम्य संस्कृति में घुले मिले रचे बसे लोग धरती के गीत गाते हैं और उन्हीं में हमारे पर्व और त्योहारों की झांकी होती है.हसरत रिसालपुरी के शब्दों में:मुख पर गुलाल...
S.M. MAsoom
31
आज हर दिन हर तरफ से महिलाओं के साथ दुर्व्यवहार , बलात्कार की खबरें आया करती हैं और ऐसा महसूस होता है जैसे आज महिला घर, बाहर , दफ्तर ,कहीं भी महफूज़ नहीं है | महानगरों में तो युवाओं का आपस में दोस्ती करना और शारीरिक सम्बन्ध बना लेना आम होता जा रहा है और वहाँ इसे धीरे...
S.M. MAsoom
31
डॉ किरण मिश्र और डॉ पवन मिश्र | दिल्ली कानपुर से जौनपुर तक |धुली धूप और खिली जुन्हाई गाँव से लेकर आया हूँ अम्बर भर आशीष लिए मैं माँ से मिलकर आया हूँ। कच्ची मिट्टी कच्चे पानी से ही फसलें पकती हैं बाबा की यह बात पुरानी गाँठ बाँध कर लाया हूँ।....डॉ पवन...
S.M. MAsoom
31
आज के आधुनिक समय में हिन्दुस्तानवासी हिन्दी नव वर्ष को भूले हुये हैं| हिन्दी नव वर्ष का शुभारम्भ चैत्र नवरात्रि के प्रथम दिन एवं रंगों के पर्व होली के बाद पड़ने वाले अमावस्या के दूसरे दिन से होता है जिसे चैत्र शुक्ल पक्ष भी कहा जाता है।     विश्वभर में सन...
S.M. MAsoom
31
जौनपुर सिटी -हमारा जौनपुर के संचालक ,लखनऊ ब्लॉगर अस्सोसिअशन के उपाध्यक्ष और जौनपुर  ब्लॉगर अस्सोसिअशन के संयोजक , सोशल मीडिया के गहरे जानकार श्री एस एम् मासूम जी  से कुछ सवाल और उनके जवाबात |--सलीम खान  ( अध्यक्ष  लखनऊ ब्लॉगर अस्सोसिअशन) (...
S.M. MAsoom
31
एस एम् मासूम से  उनके जौनपुर आगमन पे एक मुलाक़ात उनके  घर ज़ुल्क़द्र मंजिल में |रामचरित मानस में एक जगह दुनिया भर के लोगों का वर्गीकरण किया गया है. जिसमे पहली श्रेणी में वो लोग है जो करनी में विश्वास करते है दूसरी श्रेणी में वो लोग है जो कहने और उसे करने की...
रविशंकर श्रीवास्तव
4
..............................
 पोस्ट लेवल : आलेख प्राची संपादकीय
S.M. MAsoom
31
जौनपुर शहर गोमती नदी के किनारे बसा एक सुंदर शहर है जो अपना एक वि‍शि‍ष्‍ट ऐति‍हासि‍क, धार्मिक  एवं राजनैति‍क अस्‍ति‍त्‍व रखता है| यहाँ पे गोमती नदी की सुन्दरता आज भी देखते ही बनती है और आज भी इसके शांतिमय  तट लोगों को अपनी ओर आकर्षित करते हैं |कभी यह तट तप...
रविशंकर श्रीवास्तव
4
..............................
रविशंकर श्रीवास्तव
4
..............................