ब्लॉगसेतु

S.M. MAsoom
0
होली अपने आप में अनेक रंग लिये हुए है.और जिसकी अलामत बुराई पर अच्छाई की जीत है.गांवों में बसा हमारा भारत ग्राम्य संस्कृति में घुले मिले रचे बसे लोग धरती के गीत गाते हैं और उन्हीं में हमारे पर्व और त्योहारों की झांकी होती है.हसरत रिसालपुरी के शब्दों में:मुख पर गुलाल...
S.M. MAsoom
0
आज हर दिन हर तरफ से महिलाओं के साथ दुर्व्यवहार , बलात्कार की खबरें आया करती हैं और ऐसा महसूस होता है जैसे आज महिला घर, बाहर , दफ्तर ,कहीं भी महफूज़ नहीं है | महानगरों में तो युवाओं का आपस में दोस्ती करना और शारीरिक सम्बन्ध बना लेना आम होता जा रहा है और वहाँ इसे धीरे...
S.M. MAsoom
0
डॉ किरण मिश्र और डॉ पवन मिश्र | दिल्ली कानपुर से जौनपुर तक |धुली धूप और खिली जुन्हाई गाँव से लेकर आया हूँ अम्बर भर आशीष लिए मैं माँ से मिलकर आया हूँ। कच्ची मिट्टी कच्चे पानी से ही फसलें पकती हैं बाबा की यह बात पुरानी गाँठ बाँध कर लाया हूँ।....डॉ पवन...
S.M. MAsoom
0
आज के आधुनिक समय में हिन्दुस्तानवासी हिन्दी नव वर्ष को भूले हुये हैं| हिन्दी नव वर्ष का शुभारम्भ चैत्र नवरात्रि के प्रथम दिन एवं रंगों के पर्व होली के बाद पड़ने वाले अमावस्या के दूसरे दिन से होता है जिसे चैत्र शुक्ल पक्ष भी कहा जाता है।     विश्वभर में सन...
S.M. MAsoom
0
जौनपुर सिटी -हमारा जौनपुर के संचालक ,लखनऊ ब्लॉगर अस्सोसिअशन के उपाध्यक्ष और जौनपुर  ब्लॉगर अस्सोसिअशन के संयोजक , सोशल मीडिया के गहरे जानकार श्री एस एम् मासूम जी  से कुछ सवाल और उनके जवाबात |--सलीम खान  ( अध्यक्ष  लखनऊ ब्लॉगर अस्सोसिअशन) (...
S.M. MAsoom
0
एस एम् मासूम से  उनके जौनपुर आगमन पे एक मुलाक़ात उनके  घर ज़ुल्क़द्र मंजिल में |रामचरित मानस में एक जगह दुनिया भर के लोगों का वर्गीकरण किया गया है. जिसमे पहली श्रेणी में वो लोग है जो करनी में विश्वास करते है दूसरी श्रेणी में वो लोग है जो कहने और उसे करने की...
रविशंकर श्रीवास्तव
0
..............................
 पोस्ट लेवल : आलेख प्राची संपादकीय
S.M. MAsoom
0
जौनपुर शहर गोमती नदी के किनारे बसा एक सुंदर शहर है जो अपना एक वि‍शि‍ष्‍ट ऐति‍हासि‍क, धार्मिक  एवं राजनैति‍क अस्‍ति‍त्‍व रखता है| यहाँ पे गोमती नदी की सुन्दरता आज भी देखते ही बनती है और आज भी इसके शांतिमय  तट लोगों को अपनी ओर आकर्षित करते हैं |कभी यह तट तप...
रविशंकर श्रीवास्तव
0
..............................
रविशंकर श्रीवास्तव
0
..............................