ब्लॉगसेतु

sanjiv verma salil
6
परिचर्चा : "ग्रामीण संस्कृति - नागर संस्कृति"आज की परिचर्चा का विषय "ग्रामीण संस्कृति - नागर संस्कृति" बहुत समीचीन और सामयिक विषय है। "भारत माता ग्रामवासिनी" कवि सुमित्रानंदन पंत ने कहा था। क्या आज हम यह कह सकते हैं? क्या हमारे ग्राम अब वैसे ग्राम बचे हैं जिन्हें...
sanjiv verma salil
6
संस्कृति : महाभारत के अज्ञात तत्वमहाभारत की कहानी भीष्मपितामह के पिता राजा शांतनु से प्रारंभ होती है।राजा शान्तनु की दूसरी शादी एक केवट कन्या से होती है। जिसका नाम मत्स्यगंधा था। जिसका नाम आगे चलकर सत्यवती हो गया। “शांतनु, जो कि एक राजा, मतलब क्षत्रिय थे, ने क...
Basudeo Agarwal
168
सरहद पे जो लड़ते हैं, कुछ याद उन्हें कर लो,जज़्बात जरा उनके, सीने में सभी भर लो,परवाह नहीं करते, जो जान लुटाने में,तुम ऐसे ही वीरों के, चरणों में झुका सर लो।(221 1222)*2*********क्रांतिकारी वीर से ही देश ये आज़ाद है,जान कुरबाँ जिनने' की उनकी बहुत तादाद है,भूल मत जाना...
Saransh Sagar
196
Shiv Shiv Song Lyricsशिव शिव शिव शिवशिव शिव शिव शिवआदी अनंत शिवयोगी महादेवयोगी महादेवआदी अनंत शिवमहाबली शिवमहाबली शिवशिव शिव शिव शिवशिव शिव शिव शिवShiv Shiv Shiv ShivShiv Shiv Shiv ShivAadi Anant ShivYogi MahadevYogi MahadevAadi Anant ShivMahabali ShivMah...
अजय  कुमार झा
22
पिछले दिनों जब प्रधानम्नत्री महोदय ने ये कहा कि कोरोना के सन्दर्भ में दो बातें जाननी बहुत जरूरी हैं। पहली ये कि निकट भविष्य में हम इससे निजात पाने वाले नहीं हैं खासकर जब तक हमारे चिकित्सा अनुसन्धान में लगे वैज्ञानिक चिकित्सक इसके लिए को कारगर टीका दवाई इत्यादि...
Saransh Sagar
196
 भीष्म पितामह रणभूमि में शरशैया पर पड़े थे।हल्का सा भी हिलते तो शरीर में घुसे बाण भारी वेदना के साथ रक्त की पिचकारी सी छोड़ देते।ऐसी दशा में उनसे मिलने सभी आ जा रहे थे। श्री कृष्ण भी दर्शनार्थ आये। उनको देखकर भीष्म जोर से हँसे और कहा.... आइये जगन्नाथ।.. आप तो सर...
Basudeo Agarwal
168
चरैवेति का मूल मन्त्र ले, आगे बढ़ते जाएंगे,जीव मात्र से प्रेम करेंगे, सबको गले लगाएंगे,ऐतरेय ब्राह्मण ने हमको, ये सन्देश दिया अनुपम,परि-व्राजक बन सदा सत्य का, अन्वेषण कर लाएंगे।(लावणी छंद आधारित)*********संस्कृति अरु संस्कार ये दोनों होते विकशित शिक्षा से,आचार-विचार...
डॉ. राहुल मिश्र Dr. Rahul Misra
568
बुंदेलखंड से सूरीनाम तक की यात्रा-कथा(एक गिरमिटिया की गौरवगाथा)अगर यह पता चले, कि रामलीला देखने का शौक भी किसी के लिए मुसीबत का सबब बन सकता है, और रामलीला देखने के लिए जाना ही किसी व्यक्ति के जीवन में ऐसी ‘रामलीला’ का रूप ले सकता है, कि चौदह वर्षों के बजाय जीवन-भर...
डॉ. राहुल मिश्र Dr. Rahul Misra
568
फूलबाग नौचौक में बैठे राजा राम...मधुकरशाह महाराज की रानी कुँवरि गणेश ।अवधपुरी से ओरछा लाई अवध नरेश ।।सात धार सरजू बहै नगर ओरछा धाम ।फूल बाग नौचौक में बैठे राजा राम ।।तुंगारैन प्रसिद्ध है नीर भरे भरपूर ।वेत्रवती गंगा बहै पातक हरै जरूर ।।राजा अवध नरेश को सिंहासन दरबा...
अनंत विजय
53
हाल ही में एक सेमिनार में जाने का अवसर मिला जहां समाजशास्त्रियों को सुना। इस सेमिनार में संस्थाओं के बनाने और उसको सुचारू रूप से चलाने पर बात हो रही थी। सभी वक्ता अपनी-अपनी बात तर्कों के साथ रख रहे थे, ज्यादातर वक्ता नई संस्थाओं को बनाने के लिए तर्क दे रहे थे, कुछ...