ब्लॉगसेतु

Bharat Tiwari
18
दरअसल, हिंदुस्तान छोटे-छोटे उन क़िस्सों का देश है जो इसके निवासियों की तरह ही मासूम है। और हिंदुस्तान के बाशिंदों को ही, अपनी मासूमियत के बीच, दिमाग़ का इस्तेमाल करते हुए, इस देश की मासूमियत बनाये और बचाए रखनी होगी, इसे अपनी ज़िम्मेदारी समझते हुए। डॉ सच्चिदानंद ज...
Bharat Tiwari
18
उस दिन शायद पहली बार मैंने अपने पिताजी से पूछा था, "बाबा ये हिंदू क्या होता है ?" बाबा हँस दिए थे बस। दूसरे दिन यही बात मैंने जुबेर को बताई थी, तो उसने कहा था, "तू जानता है, मेरे अब्बा मुसलमान हैं और कहते हैं कि मैं भी मुसलमान हूँ।"अभी बड़े दिन पर डॉ सच्चिदानंद&nbsp...
Bharat Tiwari
18
"मेरी दाढ़ी और मेरा मुल्क" के बहाने, विश्व स्तर पर भारत की पहचान और डॉ सच्चिदानंद जोशीमुझे याद आ गया 1984 का साल। उन दिनों भी मैं दाढ़ी रखा करता था। ये वो काल था जब इश्क़ में मार खाये आशिकों में और नौकरी की तलाश में घूम रहे बेरोजगारों में दाढ़ी रखने का फैशन आम था। अपन...
Bharat Tiwari
18
ऑल द बेस्ट-डॉ सच्चिदानंद जोशीसुबह के साढ़े सात बज रहे थे। रेडियो पर संगीत सरिता कार्यक्रम की धुन बज रही थी। एफ एम के न जाने कितने चौनल हो गये थे। फिर भी राधे बाबू को ये ही चौनल पसंद आता था। कम शोर और अच्छे गाने।बंगले का दरवाजा खुला और निक्की बेबी बाहर निकली। ए...
Bharat Tiwari
18
निर्माल्य— डॉ. सच्चिदानंद जोशीमंच पर जैसे ही कलाकार के नाम की घोषणा हुइ, मै भौचक्का रह गया। कल से जिसे मैं लड़की समझ रहा था, वो लड़का निकला। वह मंच पर अपनी सितार हाथ में लिये आ रहा था और मैं कल के अपने लतिका के साथ हुए उस संभाषण को याद कर रहा था, जब इस संगीत सभा का...
Bharat Tiwari
18
छोटी कहानी में 'बड़े' मानवीय रिश्तों और मूल्यों को आधुनिक-आवश्यक-सामाजिक बदलावों की महत्ता दिखाते हुए कह पाना और साथ में कहानीपन का बने रहना, 'बड़ी' बात है! कहानीकार डॉ सच्चिदानंद जोशीजी को हार्दिक बधाई — भरत तिवारी (adsbygoogle = window.adsbygoogle || []).p...