ब्लॉगसेतु

Saransh Sagar
229
नाम - कुशमा गोसाईं.., 10 साल का बेटा - रामू गोसाईं..,चारों थैलों का वजन 105 किलो.. आज दोपहर करीब 3:00 बजे जब मैं "गुलधर" रेलवे स्टेशन पर उतरा तो सहसा कानों में एक आवाज सुनाई दी--"भैया ई थैला उठवा दीजिए तो "।  पीछे मुड़कर देखा तो लगभग 30 साल की एक महिला खड़ी थ...
Saransh Sagar
229
साल २०१५ में यही कोई नवम्बर,अक्टूबर का महिना होगा ! परी-चौक ग्रेटर नॉएडा का लोकप्रिय स्थान है वहां जाने के लिए ऑटो का इंतजार कर रहा था होस्टल से ! ताकि छुट्टी में घर जा सकू ! रात काफी थी तो कोई ऑटो वाला दिखा नही लेकिन मै अपना सामान लेकर के पैदल ही चल पड़ा सोचा शारदा...
Saransh Sagar
229
अधिकांशतः अपने प्रत्येक मधुर व कटु अनुभव को इस प्रकार के शब्द व भाव देने का प्रयास करता हूं कि घटना आप तक यथावत पहुंचे... अभी दिल्ली से घर के लिए निकला हूं, टिकट लेने के लिए लाइन में लगा हुआ था, आजकल बुकिंग क्लर्क के नाम की नेमप्लेट सामने रखी होती है, दिनेश नाम क...
Saransh Sagar
229
घटना 23 जून रात की है, किसी कारण आधी रात में ही गुड़गांव से निकलना पड़ा, करीब 2:00 बजे पुरानी दिल्ली रेलवे स्टेशन पर पहुंचा, गाड़ी का पता किया 2 घंटे बाद प्लेटफार्म नंबर 14 पर आनी थी तो वहीं जाकर बैठ गया | अचानक अपने पीछे गिलासी खड़कने की आवाज आई, मुड़कर देखा तो कर...
Saransh Sagar
229
तलवार लेकर धमकी देते हुए !!यूँ तो रोज नित्य कई घटनाये होती रहती है लेकिन मुखर्जी नगर के इलाके की घटना इसीलिए थोड़ी संवेदनशील है क्योंकि झड़प करने वाला व्यक्ति सिख समुदाय से है ! भारत में सिख समुदाय को बड़े ही सम्मान व् गौरवमय तरीके से देखा जाता है क्योंकि उनके दस गुरु...
Saransh Sagar
229
जैसा की लेख का विषय है - प्यास और भूख सबको लगती है ! उससे हम और आप समझ सकते है कि कैसा लगता होगा जब आपको भूख लगे और आप अपनी बात सामने वालो को समझा भी न सके ! मेरे रिश्तेदार में ही एक मेरी बहन है जो दिव्यांग है और उसके कष्ट मुझे सहन नही होते लेकिन उसकी पीड़ा को मैंने...
Saransh Sagar
229
 ये कहानी कोई काल्पनिक नही बल्कि सत्य घटना पर आधारित है !! आज से लगभग ५ वर्ष पूर्व दिल्ली के सरकारी स्कूल ( न्यू कोंडली ) में महेश नाम का विद्यार्थी पढ़ता था ! 8.4 Cgp से उसने प्राइवेट स्कूल से दसवी कक्षा की थी जिसके कारण उसे सरकारी स्कूल में दाखिला मिल गया ! श...
sangeeta swarup
191
भई आज कल बाजारवाद इतना बढ़ गया है कि हर दुकानदार अपने ग्राहकों को विशेष सुविधा प्रदान करता है .इसी वजह से आज कल प्रचलित है free home delivery की सुविधा. घर का कुछ भी सामान लाना है तो बस लिस्ट लिखा दीजिये और सामान आपके घर पर पहुंचा दिया जायेगा...तो भई हम जैसे लोगों क...