ब्लॉगसेतु

गायत्री शर्मा
330
- गायत्री शर्मासड़कों पर कर्फ्यू सा सन्नाटा,घरों और मुख्य चौराहों पर रौनक ... यह नजारा था आज देश के हर शहर का। जहाँ टीवी वहाँ लोग,जैसे कि एक अनार और सौ बीमार। कुछ लोगों ने तो जनसेवा करने के लिए अपनी दुकानों के बाहर बड़ी सी टीवी लगाकर ट्रॉफिक जाम करने की भरपूर व्यवस...
SANSKRIT JAGAT
478
            होली के पावन पर्व का यूँ तो अपना अलग ही मजा है  ।  प्राय: हर गाँव हर शहर में होली की धूम देखती ही बनती है किन्‍तु फिर भी कवि 'आर्त' के गाँव ईशपुर की बात ही कुछ और है  ।यहाँ लोगों के स...
पत्रकार रमेश कुमार जैन उर्फ निर्भीक
721
दोस्तों/ पाठकों, अगर आप मुझे या मेरे ब्लॉग या कई अन्य ब्लोगों पर मेरे विचार लगातार पढ़ते रहे हैं. तब आप मेरी परेशानियों से अवगत जरुर होंगे. पिछले कुछ 10 दिनों से अपनी पथभ्रष्ट पत्नी नमीषा ( बदला हुआ एक नाम, जगह का नाम आदि यह नाम किसी के नाम से किसी प्रकार की स...
पत्रकार रमेश कुमार जैन उर्फ निर्भीक
721
भ्रष्ट व अंधी-बहरी न्याय व्यवस्था से प्राप्त अनुभवों की कहानी का ही नाम है "सच का सामना" वाह! क्या कहने है? किसी ने क्या खूब पक्तियां कही है कि-प्यार एक अहसास है,एक ऐसा एहसास जिसने लाखों लोगों के सपने संजोये, लाखों मुर्दा दिलों को जीने की राह दिखाई....... एक ऐसा एह...
पत्रकार रमेश कुमार जैन उर्फ निर्भीक
560
भ्रष्ट व अंधी-बहरी न्याय व्यवस्था से प्राप्त अनुभवों की कहानी का ही नाम है सच का सामना                वाह! क्या कहने है? किसी ने क्या खूब पक्तियां कही है कि-प्यार एक अहसास है,एक ऐसा एहसास जि...
Deen Dayal Singh
242
 पोस्ट लेवल : बच्चे मन के सच्चे
रेखा श्रीवास्तव
374
                पिछले चौदह वर्षों से जिस माँ का बेटा अपनी बचपन की एक नादानी के कारण जेल की सलाखों के पीछे जीवन गुजार रहा हो, उसके लिए ये राम के वनवास जैसा पहाड़ सा कालखंड कितना कष्ट देता होगा . इस बात का अहसास उस माँ के...
 पोस्ट लेवल : एक सच ये भी..
मुन्ना के पाण्डेय
378
मैं जानता हूँ,सचिन.आज तुम्हारा जन्मदिन है.बहुत बधाईयाँ मिलेंगी तुम्हें,यहाँ,वहाँ इधर उधर से भी /पर वह दुआएं नहीं पहुँच पाएंगी तुम तकजिनको दिन भर के मर-खपने के बाद भीएक अदद सौ का नोट नहीं मिल पाताजिन घरों में बच्चों को गीला भात नमक-हल्दी मिलकर खिला दिया जाता है और औ...
 पोस्ट लेवल : सचिन/जन्मदिन...
sangeeta swarup
201
भई आज कल बाजारवाद इतना बढ़ गया है कि हर दुकानदार अपने ग्राहकों को विशेष सुविधा प्रदान करता है .इसी वजह से आज कल प्रचलित है free home delivery की सुविधा. घर का कुछ भी सामान लाना है तो बस लिस्ट लिखा दीजिये और सामान आपके घर पर पहुंचा दिया जायेगा...तो भई हम जैसे लोगों क...
अविनाश वाचस्पति
132
बहुत भला लगाअज्ञेय जी कोउनकी ही आवाजमें सुनना।पढ़ने के लिए इमेज पर चटका लगाएं । जनसत्‍ता से साभार