ब्लॉगसेतु

संजय भास्कर
225
सचिन तुम्हे सलाम
 पोस्ट लेवल : सचिन तुम्हे सलाम
महेश कुमार वर्मा
350
अपने पिछले पोस्ट में मैं इस बात को स्पष्ट करने की कोशिश की है कि किस प्रकार चुनाव आयोग का मतदाता सूचि व फोटो पहचान पत्र के कार्य में गड़बड़ी होती है और सरकार द्वारा पानी के तरह पैसे खर्च किये जाने के बावजूद भी सही ढंग से कार्य नहीं होता है और गलती में सुधार नहीं हो...
महेश कुमार वर्मा
350
चुनाव आयोग मतदाता सूचि व मतदाता पहचान पत्र बनाने में काफी पैसे खर्च कर रही है। पर मतदाता सूचि व मतदाता पहचान पत्र में गलत आंकड़ा में कमी नहीं हो रही है। और जगह की बात तो मैं नहीं कह सकता पर बिहार में तो स्थिति यही है। यहाँ के मतदाता सूचि व मतदाता पहचान पत्र मतदाता म...
girish billore
101
..............................
अविनाश वाचस्पति
281
मई महीनेकी गरमी भरी दोपहर थी.... घर से कही बाहर निकलने का तो सवालही नही उठता था।....सोचा कुछ दराजें साफ कर लू। कुछ कागजात ठीकसे फाइलोमे रखे जाएँ तो मिलनेमे सुविधा होगी....मैं फर्शपे बैठ गई और अपने टेबल की सबसे निचली दराज़ खोली। एक फाइलपे लेबल था,"ख़त"। उसे खोलके द...
ganga dhar sharma hindustan
430
दिन को दिन ही कह पाऊँगा, कह सकता दिन को रात नहीं। मुँह देखी प्रीत निभा पाऊँ , ये मेरे बस की बात नहीं ।कह लो मुँहफट भले मुझे , या नाम कोई मुझ को दे लो।मुँह से जहर उगलने का , इल्जाम भले मुझ को दे लो।मैं भी नहीं धुला ढूध का , कह कर ये संतोष करो।या फिर कह लो, तुम्हें स...
हिमांशु पाण्डेय
496
'बावरिया बरसाने वाली' के अभी सैकड़ों छंद यहाँ नहीं आए हैं। इस ब्लॉग की प्रविष्टियों को पढ़कर सम्मानित गजलकार 'द्विजेन्द्र द्विज जी' ने इनमें रूचि दिखाई। बाद में उनकी प्रेरणा से पिता जी की यह काव्य रचना पूर्णतः 'कविता कोष' में सम्मिलित करने के लिए स्वीकृत हो गई औ...
अनीता कुमार
533
Add s d buman ek utkrisht gayak bhi to your page
 पोस्ट लेवल : सचिन देव बर्मन
अविनाश वाचस्पति
132
सत्‍यम सिर्फ शेयर ही नहींसाफ्टवेयर कंपनी भी नहींकंप्‍यूटर कंपनी तो कतई नहींवो एक विश्‍वास थीएक आस्‍था थीसच की पराकाष्‍ठा थीउसी पराकाष्‍ठा के चलतेशर्मसार हो गईलाचार हो गईबेकार हो गईप्राण फूंकने के लिए सच मेंसरकार को आना पड़ाबेकार सरकार क्‍या करेकितना करेपहले अपने खा...