ब्लॉगसेतु

Bharat Tiwari
0
आज के 'टाइम्स ऑफ़ इण्डिया' की ख़बर है: 'जेएनयू में रिकॉर्ड आवेदन, पिछले साल की तुलना में 22% अधिक'. आज से ठीक तीन वर्ष पूर्व प्रो सदानंद शाही को बिलासपुर विश्वविद्यालय के कुलपति बनाए जाने पर रोक लगा दी गई थी. सुनने में आया था, यह (आरोप लगाते हुए) कहते हुए क...
Bharat Tiwari
0
'शब्दों का अर्थ बदलने का समय' व अन्य कवितायेँ— प्रो० सदानंद शाहीयह शब्दों के अर्थ बदलने का समय हैयह शब्दों के सिकुड़ने का समय हैयह शब्दों के बिगड़ने का समय हैयह शब्दों के कुण्ठित होते जाने   का समय हैयह असभ्य को भक्त कहे जाने का समय हैयह कुटिल को भगवान कहे...
अनंत विजय
0
दो हजार चौदह में, जब से केंद्र में भारतीय जनता पार्टी की अगुवाई वाली सरकार बनी है, उस वक्त से ही साहित्य जगत में इस बात को लेकर काफी शोरगुल मच रहा है कि देश में फासीवाद लगभग आ ही गया है। अभिव्यक्ति की आजादी पर बढ़ रहे खतरे को लेकर भी खूब हो हल्ला मचा, बल्कि यों कहे...